Jansandesh online hindi news

Nikita Kaul: पुलवामा हमले में ‘शहीद विभूति ढौंडियाल’ की पत्नी  निकिता ने ज्वाइन की आर्मी, बनीं ‘लेफ्टिनेंट निकिता’

नई दिल्ली: भारतीय सेना के अधिकारी मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल की विधवा निकिता कौल सेना में शामिल हो गई हैं। सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने तमिलनाडु के चेन्नई में अधिकारियों की प्रशिक्षण अकादमी में उनके कंधों पर स्टार लगाए। मेजर विभूति फरवरी 2019 में पुलवामा में आतंकवादियों से
 | 
Nikita Kaul: पुलवामा हमले में ‘शहीद विभूति ढौंडियाल’ की पत्नी  निकिता ने ज्वाइन की आर्मी, बनीं ‘लेफ्टिनेंट निकिता’

नई दिल्ली: भारतीय सेना के अधिकारी मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल की विधवा निकिता कौल सेना में शामिल हो गई हैं। सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने तमिलनाडु के चेन्नई में अधिकारियों की प्रशिक्षण अकादमी में उनके कंधों पर स्टार लगाए। मेजर विभूति फरवरी 2019 में पुलवामा में आतंकवादियों से लड़ते हुए शहीद हो गए थे।

नितिका कौल ने चेन्नई में अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी से पास आउट किया और अब भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट के रूप में कमीशन प्राप्त किया है।

इस मौके पर लेफ्टिनेंट निकिता ने कहा, ‘मैंने उसी यात्रा का अनुभव किया है जिससे वह गुजरा है। मुझे विश्वास है कि वह हमेशा मेरे जीवन का हिस्सा बनने जा रहा है। मेरी यात्रा अभी शुरू हुई है। मैं हर किसी को धन्यवाद कहना चाहूंगी, जिसने भी मुझमें विश्वास दिखाया।’

रक्षा मंत्रालय, उधमपुर के जन संपर्क अधिकारी (पीआरओ) ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर इस समारोह का एक संक्षिप्त वीडियो साझा किया है। पीआरओ उधमपुर ने ट्वीट किया, ‘पुलवामा में प्राण न्योछावर करने वाले मेजर विभूति शंकर धौंदियाल को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया।

उन्हें सर्वश्रेष्ठ श्रद्धांजलि देते हुए आज उनकी पत्नी निकिता कौल ने सेना की वर्दी पहन ली। यह उनके लिए गर्व का मौका होगा क्योंकि सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट वाई के जोशी ने उनके कंधे पर स्टार लगाए।’

मेजर ढौंडियाल जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादियों से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे और राष्ट्र के लिए उनके बलिदान को लेकर उन्हें शौर्य चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया गया था। मेजर ढौंडियाल की शादी उनके निधन से महज नौ महीने पहले ही हुई थी। इसके बाद निकिता कौल ने अपनी कॉर्पोरेट नौकरी छोड़कर भारतीय सेना में शामिल होने का प्रेरक निर्णय लिया।

पति की मौत के ठीक छह महीने बाद निकिता ने शॉर्ट सर्विस कमीशन (SSC) का फॉर्म भरा। उन्होंने परीक्षा और सेवा चयन बोर्ड (SSB) के साक्षात्कार में भी सफलता प्राप्त की। वह अपने प्रशिक्षण के लिए चेन्नई में अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी (OTA) गई थीं।

उस समय उन्होंने कहा था, ‘मैंने बड़े नुकसान से उबरने के लिए अपना समय लिया और शॉर्ट सर्विस कमीशन की परीक्षा में बैठने का फैसला धीरे-धीरे हुआ। पिछले साल सितंबर में फॉर्म भरना एक बड़ा फैसला था। लेकिन मैंने तय कर लिया था कि मैं भी अपने पति की तरह इसी रास्ते पर चलना चाहती हूं।’