;
politics

बीजेपी का आरोप, केजरीवाल ने शराब का होलसेल बिजनेस जानबूझकर प्राइवेट हाथों में दिया

×

बीजेपी का आरोप, केजरीवाल ने शराब का होलसेल बिजनेस जानबूझकर प्राइवेट हाथों में दिया

Share this article
बीजेपी का आरोप, केजरीवाल ने शराब का होलसेल बिजनेस जानबूझकर प्राइवेट हाथों में दिया
बीजेपी का आरोप, केजरीवाल ने शराब का होलसेल बिजनेस जानबूझकर प्राइवेट हाथों में दिया

दिल्ली भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष वीरेन्द्र सचदेवा एवं प्रदेश प्रवक्ता हरीश खुराना ने आज एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर पूरे विपक्ष के साथ मिलकर 'बेचारा पॉलिटिक्स' खेलने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल इस शराब घोटाले के मास्टरमाइंड हैं और वो जाँच से बच नहीं सकते। भाजपा नेताओं ने कहा कि हम गत तीन माह से केजरीवाल सरकार से शराब नीति पर कुछ सवाल पूछ रहे हैं और वह जवाब ना देकर सवालों को टाल रहे हैं, भाजपा केजरीवाल सरकार से ईडी की रिपोर्ट पर आधारित चार नए सवाल पूछती है और मांग करती है कि जांच एजेंसियां मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और सांसद संजय सिंह की भूमिका की भी जांच हो।

आगे वीरेन्द्र सचदेवा ने ईडी के चार्जशीट के आधार पर केजरीवाल सरकार से चार सवाल पूछे और कहा कि केजरीवाल होलसेल बिजनेस प्राइवेट हाथों में क्यों दिया, जबकि शराब नीति की कमेटी की ओर से प्रस्ताव रखा गया था कि सरकार होलसेल बिजनेस को अपने हाथों में रखे? जब एक्सपोर्ट कमेटी की ओर से प्रस्ताव में कमीशन 5 फीसदी था, तो केजरीवाल ने बिना अप्रूवल के ही इसको 12 फीसदी क्यों किया? जबकि यह सब अरविंद केजरीवाल के कहने पर उनके घर पर हुआ, यह भाजपा नहीं बल्कि अरविंद जो मनीष सिसोदिया के पीएस हैं ने ईडी को दिए अपने बयान में बताया है।

सचदेवा ने सवाल किया कि के. कविता जो तेलांगना के सीएम की बेटी हैं कह रही है कि उनका शराब घोटाले से कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन वो यह नहीं बता रही हैं कि उनके विजय नय्यर, अरुण पिल्लई, बुच्ची बाबू और दिनेश अरोड़ा से क्या संबंध हैं ? उन्होंने आज तक इनके साथ संबंध का खंडन भी नहीं किया है। उन्होंने कहा कि क्या यह सच नहीं है कि आम आदमी पार्टी द्वारा 100 करोड़ रुपये गोवा के चुनाव में पानी की तरह बहाया गया था, इसका आज तक आम आदमी पार्टी की ओर से खंडन नहीं किया गया और केजरीवाल को बताना चाहिए कि। चारियोट प्रोडक्शन मीडिया प्राइवेट लिमिटेड से उनके क्या संबंध है?

Advertisement
Full post