आचार्य चाणक्य ने बातए हैं सुखी रहने के मूल मंत्र

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अध्यात्म एवं ज्योतिष

आचार्य चाणक्य ने बातए हैं सुखी रहने के मूल मंत्र

Chankaya quote


आध्यात्मिक- जब कोई व्यक्ति सफल होता है तो उसके दुश्मन भी बनते हैं। लोगों की सफलता उसके हितैषियों को ही खलने लगती है। लोग आपकी सफलता से ईर्ष्या करते हैं और अपनी हार को सुनिश्चित करने हेतु निरंतर प्रयास करते रहते हैं। 
लेकिन आचार्य चाणक्य के मुताबिक यदि कोई व्यक्ति अपने जीवन के मूल उद्देश्यों को परिवर्तित कर लेता है और अपने जीवन को सफल बनाने के लिए प्रयास करता है। तो उसका जीवन सफल होता है और व्यक्ति को अपने जीवन मे कभी संकट से नहीं जूझना पड़ता है।

जाने सुखी रहने के मूल मंत्र-

आचार्य चाणक्य के मुताबिक यदि आप प्रत्येक परिस्थितियों में सकारात्मक रहते हैं और लोगों की बातों को नजर अंदाज करते हुए अपने कर्तव्य के पथ पर आगे बढ़ते रहते हैं। तो आपका जीवन सदैव सफल होता है और आपको दुख नहीं झेलना पड़ता है।
आचार्य चाणक्य के मुताबिक स्मृति हमारे ज्ञान को बढ़ाती है। लेकिन यदि आप अपने जीवन मे सफल होना चाहते हैं और अपने ज्ञान को बढ़ाना चाहते हैं। तो आप बुरी स्मृतियों को भुलाने सीखिए और लोग की बुरी आदतों को भूलकर अच्छाई के साथ आगे बढिए।
आचार्य चाणक्य के मुताबिक मुताबिक व्यक्ति को आगे बढ़ने के लिए सदैव अपने संघर्ष पर विश्वास करना चाहिए और आगे बढ़ने हेतु किसी का अहित नहीं सोचना चाहिए। क्योंकि जब आप किसी अन्य व्यक्ति का अहित करके सफल होते हैं तो आप सत्य के मार्ग से विचलित हो जाते हैं और आपकी सफलता कुछ समय तक रह पाती है।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश