इस दिन तुलसी को मत अर्पित करना जल, घर नहीं आएगी लक्ष्मी

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अध्यात्म एवं ज्योतिष

इस दिन तुलसी को मत अर्पित करना जल, घर नहीं आएगी लक्ष्मी

Image


डेस्क। Should Tulsi watered on Sunday- तुलसी विवाह (Tulsi Vivah 2022) अब नजदीक है, इस साल 5 नवंबर को तुलसी विवाह है। वहीं हर घर में पूरे साल सुबह सुबह हर कोई तुलसी के पौधे में पानी भी देता हैं, इससे तुलसी माता बहुत प्रसन्न होती हैं और आशीर्वाद भी देती है। बता दें तुलसी जी को मां लक्ष्मी (Lord Lakshmi) का रूप माना जाता है।
ऐसी मान्यता भी है कि जिस घर में तुलसी का पौधा होता है वहां मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की कृपा दृष्टि बनी रहती है पर रविवार का दिन ऐसा है जब पौधे में पानी नहीं देना चाहिए।
रविवार को तुलसी पर जल न चढ़ाएं (Why Tulsi Not Watered on Sunday) 
ऐसे माना जाता है कि रविवार के दिन तुलसी भगवान विष्णु के लिए उपवास करती हैं। वहीं इस दिन तुलसी में पानी देने से उनका व्रत टूट जाता है और ऐसा करने से घर में नकारात्मकता भी फैलती है। और आपको जीवन से जुड़ी कई परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है और देवी लक्ष्मी आपसे नाराज हो जाती हैं।
ये भी जान लीजिए: ऐसा माना जाता है कि देवी तुलसी का विवाह एकादशी के दिन भगवान विष्णु के शालिग्राम रूप से हुआ था। वहीं धार्मिक मान्यताओं के अनुसार देव उठानी एकादशी पर रीति-रिवाजों के साथ दोनों की शादी भी हुई थी। और देवी लक्ष्मी एकादशी का व्रत भी रखती हैं। वहीं तुलसी जी लक्ष्मी का रूप हैं, ऐसे में इस दिन अगर उनपर जल चढ़ते हैं तो उनका व्रत टूट जाता है और वे नाराज हो जाती हैं और धीरे धीरे पौधा भी सूखने लगता है।
तुलसी पूजन कैसे करें 
घर में तुलसी को होना बहुत ही शुभ माना जाता है, साथ ही तुलसी पूजन से बहुत लाभ मिलते भी हैं। नियमित रूप से तुलसी जी को जल अर्पित भी किया जाता है लेकिन धार्मिक ग्रंथों में रविवार और एकादशी के दिन जल अर्पित करने की मनाही भी होती है। 
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश