सुखी दाम्पत्य जीवन के लिए अभी अपनाए आचार्य चाणक्य का यह मंत्र

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अध्यात्म एवं ज्योतिष

सुखी दाम्पत्य जीवन के लिए अभी अपनाए आचार्य चाणक्य का यह मंत्र

सुखी दाम्पत्य जीवन के लिए अभी अपनाए आचार्य चाणक्य का यह मंत्र


आध्यात्मिक- हमारे जीवन के तार हमारे व्यवहार से जुड़े हैं। वही आचार्य चाणक्य कहते हैं कि एक व्यक्ति यदि अपने जीवन को नियमबद्ध तरीके से नही चलाता उसे कभी सूख का अनुभव नही होता है। 
आचार्य चाणक्य ने व्यक्ति के दाम्पत्य जीवन से लेकर उसकी सफलता तक के हर नियम का वर्णन चाणक्य नीति में किया है। वही आज हम आपके दाम्पत्य जीवन से जुड़े कुछ ऐसे तत्व बताने जा रहे हैं। जिन्हें यदि आप अपने जीवन मे उतार लेते हैं। तो आपका दामपत्य जीवन सुखी हो जाएगा।
आचार्य चाणक्य के मुताबिक व्यक्ति को अधिक गुस्सा नही करना चाहिए। अपनी कठिन परिस्थितियों का हल व्यक्ति को सरल और सुलभ तरीके से निकालना चाहिए। क्योंकि जब आप कोई काम शान्त मन से करते हैं तो न सिर्फ आपका जीवन सफल होता है बल्कि आपको अपने दाम्पत्य जीवन मे लड़ाई झगड़ो का सामना नही करना पड़ता है।
आचार्य चाणक्य कहते हैं पति को कभी भी अपनी पत्नी को अपने से कम नही आंकना चाहिए। जब आप अपनी पत्नी को समानता के भाव से देखते है और उसे सम्मान देते हैं। तो आपके जीवन मे खुशियां स्वतः ही अपना घर बना लेती है।
आचार्य चाणक्य कहते हैं एक सुखी दाम्पत्य जीवन बिताने के लिए संतुष्टि अत्यधिक आवश्यक है। यदि आप अपनी स्थिति से संतुष्ट रहते हैं और दूसरों को देखकर ईर्ष्या नही करते हैं। तो आपके जीवन मे कोई कष्ट नही आता है और आपको हमेशा सुख मिलता है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश