धूप जलाने पर हैं ये प्रतिबंध, नहीं रखा ध्यान तो हो जाएंगे बर्बाद

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अध्यात्म एवं ज्योतिष

धूप जलाने पर हैं ये प्रतिबंध, नहीं रखा ध्यान तो हो जाएंगे बर्बाद

Image


डेस्क। हिंदू धर्म में भगवान की पूजा करते समय धूप जलाई जाती है और इसे शुभता और समृद्धि का प्रतीक भी माना जाता है। वहीं ऐसा माना जाता है कि घर में सुबह-शाम अगरबत्ती जलाने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार भी होता है, और इससे घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है, पर वास्तुशास्त्र में अगरबत्ती से जुड़ी कई जरूरी बातें बताई गई हैं।
बता दें भगवान की स्तुति के समय अगरबत्ती का प्रयोग किया जाता है, लेकिन सप्ताह में दो दिन अगरबत्ती का प्रयोग वर्जित बताया गया है। ऐसा करने से घर की चमक तक फीकी पड़ सकती है। जानिए सप्ताह के किस दिन अगरबत्ती को नहीं जलाना चाहिए।
क्या हैं अगरबत्ती जलाने के फायदे
अगरबत्ती जलाने से घर में नकारात्मक ऊर्जा नहीं रहती है और वातावरण सकारात्मक भी बना रहता है। वहीं इससे देवता भी प्रसन्न होते हैं और उनकी कृपा से सुख-समृद्धि में भी वृद्धि होती है। अगरबत्ती का धुआं हवा को भी शुद्ध करता है और हानिकारक बैक्टीरिया को मार देता है। धूपबत्ती के अलावा कपूर जलाकर भी भगवान की पूजा करना बेहद ही शुभ होता है।
बता दें वास्तु के अनुसार बांस घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है और घर में खुशनुमा माहौल बना रहता है। लेकिन रविवार और मंगलवार को बांस जलाना शास्त्रों में वर्जित बताया गया है, इसलिए रविवार और मंगलवार को अगरबत्ती नहीं जलानी चाहिए, ऐसा करने से मानसिक और आर्थिक नुकसान भी होता है। इससे घर में दरिद्रता भी आती है और परिवार के सदस्यों के बीच तनाव बढता ही रहता है।
क्या होगा नुकसान है?
पौराणिक शास्त्रों के अनुसार मंगलवार और रविवार को बांस जलाने से संतान को काफी हानि होती है। साथ ही इसके अलावा बांस जलाने से पितृदोष होता है, जिससे परिवार में सुख-शांति भी नहीं रहती है। बांस जलाने से दुर्भाग्य आता है और आपको आर्थिक तंगी से गुजरना भी पड़ सकता है, इसलिए अगरबत्ती जलाना शास्त्रों में वर्जित बताया गया है।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश