Jansandesh online hindi news

ढाका में वह तालाब आज भी मौजूद है जिसमें बल्लाल सेन की मां नहाने गयी थीं, जाने पूरी खबर 

वहीं उन्होंने एक बच्चे को जन्म दिया जिसका नाम रखा गया बल्लाल सेन। 
 | 
ढाका में वह तालाब आज भी मौजूद है जिसमें बल्लाल सेन की मां नहाने गयी थीं, जाने पूरी खबर 

1159 में बल्लाल सेन राजा बने तो एक रात सपने में उन्हें मां दुर्गा ने दर्शन दिया। उन्होंने कहा कि मेरी एक मूर्ति जंगल में मिलेगी। उसे लाकर तुम वहीं स्थापित करो जहां तुम्हारा जन्म हुआ था। सेन साम्राज्य के चौथे राजा बल्लान ने ऐसा ही किया। वो ढाक के एक जंगल में गये। वहां उन्हें मां दुर्गा की अष्टधातु की मूर्ति मिली। उस मूर्ति को उन्होंने लाकर उसी तालाब के किनारे स्थापित कर दिया जहां उनका जन्म हुआ था। 

करीब दो सौ सालों तक सेन राजाओं ने बंगाल पर शासन किया था। कहते हैं बारहवीं सदी में इस मूर्ति की स्थापना के बाद मां दुर्गा के इस स्वरूप का नाम ढाकेश्वरी देवी हो गया। कालांतर में इन्हीं ढाकेश्वरी देवी के नाम पर जो नगर बसा वही आज बांग्लादेश की राजधानी ढाका के नाम से जाना जाता है। 

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।