यौन संबंधों को जागृत करने के लिए इस्तेमाल होती है धनिया

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. रोचक खबरें

यौन संबंधों को जागृत करने के लिए इस्तेमाल होती है धनिया

Image


डेस्क। Facts about Coriander: अगर किचन में धनिया न हो तो खाने बनाने में मजा ही नहीं आता, वहीं दुनिया का एक हिस्‍सा ऐसा भी है जो इन धनिये की पत्तियों से नफरत ही नहीं करता बल्कि बकायदा 24 फरवरी के दिन धनिया हेटर्स डे तक मनाता है।
ऐसे ही धनिए के नाम की शुरुआत भी कुछ ऐसे ही हुई थी। धनिए का नाम ग्रीस वर्ड कोरोस से निकला है, जिसका मतलब होता है बदबू मारने वाला कीड़ा और आपको जानकर हैरानी होगी 15वीं-16वीं सदी में इन पत्‍तों का इस्‍तेमाल यौन संबंधों को जागृत करने के लिए भी किया जाता था तो आइए जानते हैं इन हैरान करने वाले किस्‍सों के बारे में।
धनिए का इतिहास?
रसोई में धनिये का इस्‍तेमाल सदियों से होता आ रहा है वहीं यहां तक की बाइबल में भी इसके बारे में बताया गया है और इसके अलावा लगभग 5 हजार ईसा पूर्व इसके बीजों के प्रमाण भी मिले हैं।
खटमल से की तुलना 
जिन धनिए पत्‍तों को आप टेस्‍ट बढ़ाने के लिए सब्‍जी, पोहे और ढोकले में डालते हैं उसे इतिहास में कुछ और ही बताया गया है बता दें ये नाम ग्रीस वर्ड कोरोस से निकला है। वहीं इसका मतलब होता है कि खटमल या बदबू मारने वाला कोई कीड़ा कई जगह पर इसे स्टिंकिंग हर्ब के नाम से भी जाना जाता है और इन सब बातों से ही आप समझ सकते हैं कि लोग क्यों इससे इतनी नफरत करते होंगे।
इन लोगों को बिल्कुल पसंद नहीं धनिया 
ऑस्ट्रेलिया के ज्‍यादातर लोग इससे दूर भी भागते हैं। वहां धनिए को सबसे नफरत करने वाला हर्ब भी कहा गया है और आप जानकर हैरान होंगे कि वहां 14 साल पहले I Hate Coriander Day बनाने की शुरुआत हुई थी और जिसमें लोग अपने अनुभव साझा करते थे कि धनिए की गंध उन्हें बीमार तक करती है और उसी साल से हर साल 24 फरवरी को धनिया-हेटर्स डे मनाने की शुरुआत हुई।
यौन इच्छा को जगाता है धनिया 
धनिए का इस्तेमाल पुराने जमाने में तरह-तरह के काम के लिए होता था और उस समय सब्जियों में मसाले या शोरबा में सजावट के लिए तो, इसका इस्‍तेमाल होता ही था। वहीं इसके अलावा इसे यौन ताकत बढ़ाने वाली बूटी के रूप में भी उपयोग किया जाता था। साथ ही 15वीं-16वीं सदी के बीच यूरोप में धनिए की पत्तियों पर शराब छिड़ककर भी परोसते थे जिससे यौन संबंधों की इच्छा जागृत हो इसी वजह से इसे एफ्रोडिजिएक डाइट की श्रेणी में भी रखा गया है।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश