चीता और तेंदुआ में होता है बड़ा अंतर, आप भी जान लीजिए?

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. रोचक खबरें

चीता और तेंदुआ में होता है बड़ा अंतर, आप भी जान लीजिए?

Image


डेस्क: नामीबिया से 8 विदेशी चीते (Cheetah) भारत के ग्वालियर में लाए जा चुके हैं। श्योपुर के कूनो नेशनल पार्क में उनका पुनर्वास भी हो गया है।
वहीं खास बात यह है कि पीएम मोदी के जन्मदिन के खास अवसर पर चीतों का आगमन हुआ है जो फिलहाल, चीतों को नामीबिया से भारत लाए जाने के बीच ये जमकर चर्चा का विषय भी बना कि चीते और तेंदुए (cheetah Vs Leopard) में आखिर क्या अंतर होता है। ऐसा इस लिए हुआ क्योंकि दोनों देखने में एक जैसे ही लगते हैं। तो आइये आपको बताते हैं दोनों के बीच क्या फर्क होता है और इसकी हम इनको कैसे पहचान कर सकते हैं?
बता दें चीते के तेंदुओं की तुलना में कंधे लंबे होते हैं। ये तेंदुए से ऊंचे भी नजर आते हैं। चीते का वजन औसतन 72 किलोग्राम होता है। चीता 120 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से दौड़ सकते हैं। वहीं, तेंदुए बड़ी बिल्लियों में सबसे छोटे माने जाते हैं, हालांकि ये चीतों की तुलना में अधिक भारी और मजबूत भी होते हैं। तेंदुए का वजन 100 किलोग्राम तक का होता है। चीते की तुलना में तेंदुए अधिक मांसल बिल्लियां मानी जाती हैं। तेंदुए अपनी अत्यधिक ताकत का इस्तेमाल शिकार पर घात लगाकर उसको पकड़ने में करते हैं और तेंदुए अपने भोजन की रक्षा के लिए शिकार को मारने के बाद पेड़ पर ले देते हैं।
इसके आलावा दोनों की खाल में भी अंतर पाया जाता है। जहां चीते की खाल हल्के पीले और ऑफ व्हाइट कलर की होती है। तो वहीं तेंदुए की खाल पीले रंग की ही होती है। चीते की खाल पर गोल या अंडाकार काले धब्बे भी होते हैं। तो वहीं तेंदुए की खाल पर धब्बों का आकार फिक्स ही नहीं रहता।  
इसके अलावा चीता और तेंदुए के पंजों में भी काफी अंतर पाया जाता है जहां चीते के पंजे तेज स्पीड से दौड़ने के हिसाब के बने होते हैं।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश