डॉक्टर को प्राइवेट पार्ट दिखाकर नर्स ने बनाया हनी ट्रैप का शिकार

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अन्य राज्य

डॉक्टर को प्राइवेट पार्ट दिखाकर नर्स ने बनाया हनी ट्रैप का शिकार

Image


Nurse made victim of honey trap by showing private part to doctor

डेस्क। राजस्थान के सीकर जिले में एक डॉक्टर को नर्स ने हनी ट्रैप का शिकार बनाया। उनपर यह आरोप है कि नर्स ने वीडियो कॉल पर उसे अपना प्राइवेट पार्ट दिखाकर झांसे में ले लिया और उसके बाद जो हुआ उसने सबका दिल दहला कर रख दिया।

इतना ही नहीं उसने इलाज के बहाने घर बुलाकर भी गंदी हरकतें की और उसका वीडियो बनाकर वायरल करने की धमकी देकर वह अब तक डॉक्टर से 12 लाख रुपए भी वसूल चुकी है।

वहीं अब वह गुंडों के साथ घर पहुंचकर पिस्टल लहराते हुए डॉक्टर से एक करोड़ रुपये की मांग भी पेश कर चुकी है। इस मामले में डॉक्टर ने शनिवार को पुलिस में रिपोर्ट दर्ज की है। जिसकी जांच अभी जारी है।

डॉक्टर ने बताया कि 2018 में वह लक्ष्मणगढ़ सरकारी अस्पताल में नियुक्त हुआ था। इस दौरान निजी अस्पताल में काम करने वाली नर्स रेणुका चौधरी परिजनों को उपचार के लिए अस्पताल लेकर आती थी। इस दौरान उसके साथ ही उसके पति से भी उसका संपर्क हुआ। वहीं एक बार उसका पति बीमार हुआ तो इलाज के लिए डॉक्टर नर्स के गांव भी गया। जब 16 जनवरी 2021 को उसका तबादला जाजोद सीएचसी में हो गया तो भी रेणुका व उसका पति उससे संपर्क करता था।  

डॉक्टर ने आगे बताया कि मार्च 2021 में रेणुका चौधरी नसबंदी का ऑपरेशन करवाने के लिए लक्ष्मणगढ़ आई थीं। जिसके 10 से 15 दिन बाद वह पेट में दर्द होने की शिकायत करने लग गईं। 

ऐसे में डॉक्टर उपचार के लिए उसे घर भी देखने गया। इसके बाद वह उससे वॉइस कॉल और वीडियो कॉल पर बातें करने लग गईं। वीडियो कॉल पर वह अपने प्राइवेट पार्ट भी उसे दिखाने लगी। इसी बीच मई 2021 में रेणुका ने डॉक्टर से 30 हजार रुपए उधार मांगे और उसने दे भी दिए। 

इसके कुछ दिन बाद रेणुका ने उसे घर बुलाया। वह घर गया तो  रेणुका छोटे कपड़ों में बैठी थी और गलत नियत से उसे इधर-उधर टच करने लगी। इसके कुछ दिन बाद से वह उसका एक अश्लील वीडियो होने की बात कहते हुए वायरल करने की धमकी देने लग गई। 

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश