Jansandesh online hindi news

बोकारो आगमन पर इस्पात सचिव प्रदीप कुमार त्रिपाठी को सेल के सीईओ ने पुष्प देकर किया स्वागत
 

 | 
बोकारो आगमन पर इस्पात सचिव प्रदीप कुमार त्रिपाठी को सेल के सीईओ ने पुष्प देकर किया स्वागत

शेखर की रिपोर्ट

देश के इस्पात सचिव प्रदीप कुमार त्रिपाठी 10 सितंबर को बोकारो में उनका सेल के सीईओ के द्वारा पुष्प देकर स्वागत किया गया तो वही एडीएम बिल्डिंग में सीआईएसएफ के द्वारा परेड सलामी भी दिया गया पर्यटन स्थल के बाद वह एडीएम बिल्डिंग में सीईओ के साथ वार्तालाप हुई उसके बाद वह वहां से निकलकर प्लांट का भ्रमण करने के लिए निकल गए  आपको बताते जाए कि देश के सचिव 4 दिवसीय के दौरे पर बोकारो आए हुए है। सूत्रों के मुताबिक पता चला है कि बोकारो स्टील प्लांट का भ्रमण करेंगे और वह बोकारो के विस्तृत के लिए भी सीओ से मिलकर चर्चा करेंगे इस चार दिवसीय दौरे में  बोकारो स्टील के विस्तारीकरण एवं आधुनिकरण बोकारो में स्टील क्लस्टर पश्चिम सिंहभूम में प्लेट प्लांट के अलावा भविष्य में टाटा स्टील की कार्य योजना पर चर्चा करना शामिल होगा इसके बाद 11 सितंबर को यहां से सड़क मार्ग से जमशेदपुर के लिए रवाना हो जाएंगे

जमशेदपुर में टाटा स्टील का निरीक्षण करेंगे इसके बाद वह सेल की माइंस का निरीक्षण करने जाएंगे टाटा के बाद वराछी लौटेंगे रांची लौटने के क्रम में मुख्य सचिव उद्योग विभाग के सचिव के साथ मिलेंगे संभावना है कि वह मुख्यमंत्री से भी मिलेंगे इस्पात सचिव राज्य सरकार के अधिकारियों से मिलकर सेल की लंबित योजनाओं का भविष्य की संभावनाओं पर भी चर्चा करेंगे  कॉल लॉग से कोयला के उत्पादन में बढ़ोतरी सहित अन्य मुद्दे शामिल हैं राज्य सरकार ने इस्पात सचिव को राजकीय अतिथि घोषित किया है इस्पात सचिव के प्रोटोकॉल के तहत प्रशासन ने अधिकारी व्यवस्था बनाने में जुट गए हैं आपको बताते जाएगी पीके त्रिपाठी जम्मू-कश्मीर कैडर के आईपीएस है इस्पात सचिव जम्मू-कश्मीर कैडर के 1987 बैच के आईएएस अधिकारी है वर्ष 2020 में इन्हें सचिव बनाया गया है मेकेनिकल इंजीनियरिंग को जम्मू कश्मीर जैसे राज्य के सामान्य प्रशासन के साथ तकनीकी अनुभव भी है ऐसे में उनका दौरा कई मायने में महत्वपूर्ण होने वाला है

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।