ट्विटर डील के बाद भी एलन मस्क पर होगी कानूनी कार्यवाही, जानिए बड़ी वजह

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. Tech खबरें

ट्विटर डील के बाद भी एलन मस्क पर होगी कानूनी कार्यवाही, जानिए बड़ी वजह

Image


डेस्क। ट्विटर में कर्मचारियों की छंटनी के फैसले को लेकर एलन मस्क को कानूनी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। क्योंकि लगभग 3,700 नौकरियों को खत्म करने के एलन मस्क के इस कदम के खिलाफ मुकदमा दायर कर दिया गया है।
श्रमिकों का यह भी कहना है कि इस संबंध में कंपनी पर्याप्त नोटिस के बिना संघीय और कैलिफोर्निया कानून का उल्लंघन भी कर रही है।
सैन फ्रांसिस्को संघीय अदालत में गुरुवार को एक क्लास-एक्शन मुकदमा भी दायर किया है। और ट्विटर ने कर्मचारियों को एक ईमेल करके छंटनी के बारे में सूचना दी थी हालांकि इस बारे में ट्विटर ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है।
जानिए क्या कहता है अमेरिकी कानून?
संघीय कर्मचारी समायोजन और पुनर्प्रशिक्षण अधिसूचना अधिनियम बड़ी कंपनियों को कम से कम 60 दिनों की अग्रिम सूचना के बिना बड़े पैमाने पर छंटनी से प्रतिबंधित भी करता है।
वहीं गुरुवार को शिकायत दर्ज करने वाले वकील शैनन लिस-रिओर्डन ने यह कहा कि, “हमने यह मुकदमा आज रात यह सुनिश्चित करने के प्रयास से दायर किया है कि कर्मचारियों को पता है कि उन्हें अपने अधिकारों से समझौता नहीं करना चाहिए और उनके पास अपने अधिकारों के लिए लड़ने का यहीं अवसर है।”
बता दें जून में भी एलन मस्क की इस इलेक्ट्रिक-कार निर्माता कंपनी ने अपने कर्मचारियों की संख्या में करीब 10 फीसदी की कटौती की थी।
साथ ही एलन मस्क द्वारा ट्विटर के अधिग्रहण के बाद से कर्मचारियों की छंटनी को लेकर अटकले भी लगाई जा रही थी। वहीं अब कंपनी ने गुरुवार को ई-मेल के जरिए कर्मचारियों को सूचित किया है कि वे छंटनी के बारे में कर्मचारियों को सूचित करेंगे और बर्खास्त किए गए लोगों को उनके व्यक्तिगत ईमेल पर अगले चरणों के बारे में सूचित भी किया जाएगा।
इससे पहले एलन मस्क ने ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल समेत टॉप मैनेजमेंट के कई अधिकारियों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश