Jansandesh online hindi news

अखिलेश गुंडों के बल पर करते हैं राज... जुबानी तीर कहने वाले स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने अब पकड़ा अखिलेश का दामन

यूपी में विधानसभा चुनाव का माहौल अब गरमाने लगा है। एक तरफ प्रदेश में भाजपा आने वाले समय में पहले तीन चरणों के लिए उम्मीदवारों का ऐलान करने की तैयारी कर रही है। वहीं, दूसरी तरफ पार्टी छोड़ने वाले विधायकों की लाइन लग गई है। कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने पहले इस्तीफा दिया।  ऐसे राज्य की सियासत के बड़े नेताओं का दल बदलने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।
 | 
अखिलेश गुंडों के बल पर करते हैं राज... जुबानी तीर कहने वाले स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने अब पकड़ा अखिलेश का दामन

लखनऊ यूपी में विधानसभा चुनाव का माहौल अब गरमाने लगा है। एक तरफ प्रदेश में भाजपा आने वाले समय में पहले तीन चरणों के लिए उम्मीदवारों का ऐलान करने की तैयारी कर रही है। वहीं, दूसरी तरफ पार्टी छोड़ने वाले विधायकों की लाइन लग गई है। कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने पहले इस्तीफा दिया।  ऐसे राज्य की सियासत के बड़े नेताओं का दल बदलने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

उन्होंने प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को पत्र लिखकर यह जानकारी दी। 2016 में उन्होंने मायावती पर टिकट बेचने का आरोप लगते हुए मौर्य ने बीएसपी से इस्तीफा दे दिया था। बता दें कि एक समय था जब स्वामी प्रसाद मौर्य को फूटी आंख नहीं सुहाते थे यही वजह थी वो अखिलेश पर जमकर जुबानी तीर छोड़ते थे।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने कुशीनगर जिला कलक्ट्रेट में आयोजित जिला पंचायत सदस्यों के शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे थे। यहां पर उन्होंने अखिलेश यादव के पुलिस पर दिए हुए बयान को लेकर तीखा हमला किया था। समाजवादी पार्टी के शासनकाल में आतंकवादियों पर से मुकदमा हटाने का प्रयास किया गया था। समाजवादी पार्टी के मुखिया अपराधी गुंडे और उपद्रवियों के बल पर शासन करते हैं।

वहीं कुशीनगर में स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि अखिलेश यादव के कागजी कार्य को योगी सरकार ने पूरा किया इसलिए योगी सरकार की सराहना करनी चाहिए। आशा है अखिलेश यादव को सद्बुद्धि आयेगी। वे अच्छी बात करें और अच्छा काम करें तभी उनका जनाधार बढ़ेगा। जनता की आंख में धूल झोंकेंगे तो ये जनता अब जान चुकी है।

वर्ष 2017 में विधानसभा चुनाव से पहले स्वामी प्रसाद मौर्य बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का साथ छोड़कर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुए थे और अब 2022 विधानसभा चुनाव से पहले वह भाजपा छोड़ सपा का हाथ थाम लिया हैं। यूपी के प्रतापगढ़ जिले में जन्मे मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने इलाहाबाद यूनिवर्स‌िटी से लॉ में स्नातक और एमए की डिग्री की हासिल की है।

1980 में उन्होंने राजनीति में सक्रिय रूप से कदम रखा। वह इलाहाबाद युवा लोकदल की प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य बने और जून 1981 से सन 1989 तक महामंत्री पद पर रहे। इसके बाद 1989 से सन 1991 तक यूपी लोकदल के मुख्य सचिव रहे। मौर्य 1991 से 1995 तक उत्तर प्रदेश जनता दल के महासचिव पद पर रहे। 1996 को स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा की सदस्यता ली और प्रदेश महासचिव बने। इसके बाद उन्होंने बसपा के टिकट पर डलमऊ, रायबरेली से विधानसभा सदस्य बने और चार बार विधायक बने। मंत्री ने 2009 में पडरौना विधानसभा उपचुनाव जीता और केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह की मां को हराया। मई 2002 से अगस्त 2003 तक उन्हें मंत्री का दर्जा मिला और अगस्त 2003 से सितंबर 2003 तक नेता प्रतिपक्ष भी रहे। स्वामी प्रसाद मौर्य वर्ष 2007 से 2009 तक मंत्री रहे। जनवरी 2008 में उन्हें बसपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। इसके बाद 2016 में उन्होंने बसपा से बगावत करके भाजपा का हाथ थाम लिया था।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।