Jansandesh online hindi news

अमित शाह ने अखिलेश का खेल बिगाड़ दिया .. BJP के साथ आया इतना बड़ा वोटबैंक ..!

यूपी के पूर्वांचल और मध्य इलाके में विधानसभा की 32 ऐसी सीटें हैं, जिन पर कुर्मी, पटेल, वर्मा और कटियार वोटर निर्णायक भूमिका अदा करते हैं। पूर्वांचल के कम से कम 16 जिलों में इन वर्गों के वोटरों की संख्या 8 से लेकर 12 फीसदी तक है। इसके अलावा कानपुर, कानपुर देहात और इनके आसपास भी कटियार और वर्मा वोटरों की अच्छी संख्या है।

 | 
अमित शाह ने अखिलेश का खेल बिगाड़ दिया .. BJP के साथ आया इतना बड़ा वोटबैंक ..!

यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में मची मंत्रियों और विधायकों की भगदड़ के बीच पार्टी को केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की अपना दल-एस और निषाद पार्टी के संजय निषाद का समर्थन अभी बदस्तूर जारी है। इन दोनों दलों को बीजेपी ने अपने पाले में बना रखा है और बुधवार देर रात तक अनुप्रिया और संजय निषाद के साथ बैठक कर सीटों के बंटवारे पर भी मुहर लगा दी गई है।

इस बैठक में सीएम योगी आदित्यनाथ नहीं थे। गृहमंत्री और बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह ने अनुप्रिया और निषाद से देर रात करीब 1 बजे तक बातचीत के बाद सीट बंटवारे पर मुहर लगा दी। इन दोनों के जरिए बीजेपी अब तोड़फोड़ मचा रही समाजवादी पार्टी यानी सपा के इरादों से निपटने की तैयारी कर रही है।

दरअसल, यूपी के पूर्वांचल और मध्य इलाके में विधानसभा की 32 ऐसी सीटें हैं, जिन पर कुर्मी, पटेल, वर्मा और कटियार वोटर निर्णायक भूमिका अदा करते हैं। पूर्वांचल के कम से कम 16 जिलों में इन वर्गों के वोटरों की संख्या 8 से लेकर 12 फीसदी तक है। इसके अलावा कानपुर, कानपुर देहात और इनके आसपास भी कटियार और वर्मा वोटरों की अच्छी संख्या है।

अनुप्रिया के पिता और अपना दल के संस्थापक सोनेलाल पटेल इन इलाकों के सबसे बड़े कुर्मी नेता माने जाते थे। ऐसे में बीजेपी का साथ देकर अपना दल यूपी चुनावों में पूर्वांचल और मध्य का इलाका उसके लिए सुरक्षित करता दिख रहा है। यूपी में एक कहावत भी है कि जिसने पूर्वांचल जीता, वही सत्ता संभालता है। ऐसे में अनुप्रिया से गठबंधन कर बीजेपी यहां सपा के खिलाफ खुद को मजबूत कर रही है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।