Jansandesh online hindi news

और जब महिला आयोग की सदस्य ने हिंदू लड़की की शादी मुस्लिम युवक से कराई 

महाराजगंज जिले के गांव ओडवलिया थाना निचलौल की निवासिनी हिंदू युवती का कुशीनगर में कसया थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी मुस्लिम युवक से हुआ था बचपन में प्रेम प्रसंग, दो समुदाय से जुड़े युवक-युवती के बीच शादी करने में आ रही अड़चन में परिवार के लोगों की रजामंदी पर कुशीनगर जनपद में योगी सरकार के महिला आयोग के सदस्य संगीता तिवारी के हस्तक्षेप के बाद दो समुदायों से जुड़े मुस्लिम युवक और हिंदू युवती से शादी करा दी ।
 | 
और जब महिला आयोग की सदस्य ने हिंदू लड़की की शादी मुस्लिम युवक से कराई 

उपेंद्र कुशवाहा

पडरौना,कुशीनगर। बचपन की दोस्ती में हुई प्रेम संबंध के बाद बड़े होने पर एक साथ पति पत्नी बन कर जीवन बिताने की उम्मीद जताए दो समुदाय से जुड़े युवक-युवती के बीच शादी करने में आ रही अड़चन में परिवार के लोगों की रजामंदी पर कुशीनगर जनपद में योगी सरकार के महिला आयोग के सदस्य संगीता तिवारी के हस्तक्षेप के बाद दो समुदायों से जुड़े मुस्लिम युवक और हिंदू युवती से शादी करा दी । 

महिला आयोग के सदस्य बुधवार को जनपद के सर्किट हाउस में जन सुनवाई के दौरान आए तमाम मामलों को सुनकर निस्तारण कर रही थी। इस दौरान महाराजगंज जिले के गांव ओडवलिया थाना निचलौल जनपद महाराजगंज के निवासिनी एक हिंदू युवती ने कुशीनगर जिले के कसया थाना क्षेत्र के रामनगर निवासी एक मुस्लिम युवक से बचपन में प्रेम प्रसंग होने के बाद बालिक होने पर भी शादी करने में आ रही अड़चन को दोनों समुदाय के तरफ के परिवार के लोगों ने अपने रजामंदी से शादी कराने की गुहार लगा दी। इसके बाद महिला आयोग के सदस्य ने हिंदू युवती की शादी मुस्लिम लड़के से करा दी। 

गौरतलब हो कि हिंदू लड़की महाराजगंज जिले के ओडवलिया थाना निचलौल के रहने वाली है। जबकि मुस्लिम समुदाय का लड़का कसया थाना क्षेत्र के रामनगर जनपद कुशीनगर का निवासी है। बताया जाता है कि हिंदू लड़की रामनगर गांव अपने मामा के घर आकर रहती थी और हिंदू लड़की ने अपने बचपन के उम्र से ही कसया थाना क्षेत्र के उसी गांव निवासी मुस्लिम लड़के के साथ प्रेम कर लिया था। इसके बाद बड़े होने पर एक दूसरे के पति पत्नी होने पर राजी हो गए थे,लेकिन इन दोनों रिश्ते में आ रही अड़चनों को दोनों परिवार के तरफ से राजामंदी होने के बाद महिला आयोग के सदस्य से शादी कराने की गुहार लगाई थी।

महिला आयोग की सदस्य संगीता तिवारी ने बताया कि 'दोनों लड़का और लड़की ने अपने प्रमाणपत्रों के आधार पर बालिग होना बताया है,और दोनों ने दूसरे धर्म के युवकों से अपनी मर्जी से विवाह किया है। युवक-युवती के परिजनों ने लिखित रूप से अब तक कोई भी आपत्ति नहीं जताई है। इस प्रकरण में कथित लव जिहाद का कोई मामला नहीं है। अगर भविष्य में किसी प्रकार की कोई भी इन दोनों लड़की और लड़के के परिवार वाले आपत्ति जताते हैं तो इन दोनों पति-पत्नी के सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।