Jansandesh online hindi news

चंद्रशेखर आजाद का ऐलान, नही मिला इंसाफ तो होगा प्रधानमंत्री के आवास का घेराव 

आजाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद का कहना है अगर लखीमपुर-खीरी में हुई हिंसा की घटना में शामिल लोगों को सात दिनों के भीतर गिरफ्तार नहीं किया जाता तो वह और उनके समर्थक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास का घेराव करेंगे।
 | 
लखीमपुर खीरी मामला
योगी आदित्यनाथ की ओर से मृतक के परिजनों को 45-45 लाख रुपये और एक सरकारी नौकरी

लखीमपुर खीरी | आजाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि अगर लखीमपुर-खीरी में हुई हिंसा की घटना में शामिल लोगों को सात दिनों के भीतर गिरफ्तार नहीं किया जाता तो वह और उनके समर्थक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के आवास का घेराव करेंगे।

उन्होंने यह भी कहा कि वैसे तो प्रधानमंत्री हर मामले मे ट्वीट करते हैं, लेकिन किसानो के मांले मे कुछ भी नही कह रहे | उनका कहना है की प्रधानमंत्री जी को  किसानों से बात करनी चाहिए और लखीमपुर-खीरी जाकर पीड़ित परिवारों से मुलाकात करनी चाहिए। गुनहगार खुले घूम रहे हैं, उन्हे सज़ा मिलनी चाहिए , उन मुजलिमों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करना चाहिए | उनका कहना है की यूपी मे कानून व्यवस्था की स्थिति कमजोर पड़ गई है, इसलिए योगी आदित्यनाथ को इस्तीफा दे देना चाहिए |

यूपी के लखीमपुर-खीरी में किसानों के ऊपर गाड़ी चढ़ाने का मामला दिन-ब-दिन तूल पकड़ता जा रहा है। सीएम योगी आदित्यनाथ की ओर से मृतक के परिजनों को 45-45 लाख रुपये और एक सरकारी नौकरी दिए जाने का ऐलान कर दिया गया है। वहीं, विपक्ष यूपी सरकार को घेरने के लिए पूरी कोशिश कर रहा है।



 

क्या है लखीमपुर खीरी का मामला  


गौरतलब है कि लखीमपुर-खीरी जिले के तिकुनिया क्षेत्र में गत रविवार को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के दौरे के विरोध को लेकर भड़की हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष समेत कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।