Jansandesh online hindi news

तहसील शाहाबाद ब्लॉक भरखनी ग्राम पंचायत धानी नगला में आवारा पशु की वजह से एक और दर्दनाक मौत

 | 
तहसील शाहाबाद ब्लॉक भरखनी ग्राम पंचायत धानी नगला में आवारा पशु की वजह से एक और दर्दनाक मौत

अनुज कुमार गुप्ता की रिपोर्ट 

 हरदोई  

शाहाबाद तहसील ब्लाक भरखनी के ग्राम पंचायत धानी नगला में आज लगभग 12:00 बजे आवारा सांड ने राजीव जाटव को सामने से टक्कर मार दी जिसकी वजह से उसकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई मामला यह है राजवीर जाटव निवासी धानी नगला पिता का नाम रामकिशन जाटव आज 11:00 बजे घर से बकरी लेकर बिबियापुर मंदिर के पास चराने गया था उसने बकरी को खेत में छोड़कर खेत के किनारे मेड पर बैठ गया तभी उत्तर की तरफ से आवारा सांड दौड़ता हुआ आया और एक बच्चे पर झपटा बच्चे को बचाने के लिए राजवीर जाटव सांड को भगाने के लिए सामने आए इस पर सांड ने सामने से सीधी टक्कर राजवीर जाटव को मार दी इससे उसकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई राजवीर जाटव अभी चार-पांच महीने पहले ही लंबी बीमारी से ठीक हुए थे जिसमें लगभग उसका तीन लाख रुपए खर्च हुआ था

जिसकी वजह से उसके ऊपर कर्जा काफी हो गया था राजवीर जाटव के 8 बच्चे हैं जिसमें से 6 लड़कियां और दो लड़के हैं बड़ी लड़की की उम्र 24 वर्ष और सबसे छोटे बेटे की उम्र 10 वर्ष है राजवीर ने चार लड़कियों की शादी कर दी थी दो लड़कियां और दोनों बेटे अभी नाबालिक हैं परिवार में कमाने वाला केवल राजवीर ही था इधर राज वीर के पिता राम किशन और परिवार वालों का रो रो कर बुरा हाल है थाना पचदेवरा की पुलिस मौके पर पहुंची सब इंस्पेक्टर शमशेर अहमद ने शब का पंचनामा भरवा कर पोस्टमार्टम के लिए हरदोई भेज दिया है अग्रिम कार्यवाही पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद की जाएगी इधर आवारा पशुओं का कोई भी व्यवस्थित इंतजाम नहीं है योगी आदित्यनाथ के द्वाराभापुर सपहा में गौशाला भी बनवाई गई हैं लेकिन आवारा पशु फिर भी खुलेआम घूम रहे हैं प्रशासन इस बात पर खामोश बैठा है ऐसे न जाने कितने ही कांड इस क्षेत्र में हो चुके हैं

क्षेत्रवासी आवारा पशुओं की वजह से काफी परेशान रहते हैं शाम को फसलों की रखवाली करते हैं अपने बच्चों को डरा धमका कर घर पर रखते हैं ताकि किसी सांड की चपेट में ना जाएं लेकिन आज तक इसका कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किया गया है क्षेत्र में लगभग 20 30 हजार आवारा पशुओं की संख्या है जोकि हरगांव में पाए जाते हैं इसकी वजह से काफी डर का माहौल बना रहता है वोटिंग के समय बड़े लंबे चौड़े वायदे किए जाते हैं कि आपके क्षेत्र में डिग्री कॉलेज बनाया जाएगा जानवरों की व्यवस्था होगी लेकिन वोट पड़ने के बाद मामला यहीं पर स्थिर रह जाता है प्रशासन से विनम्र निवेदन है आवारा पशुओं का व्यवस्थित इंतजाम किया जाना चाहिए नहीं तो ऐसे न जाने कितने ही राजवीर काल के गाल में समा जाएंगे