Jansandesh online hindi news

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ : मौजूदा जरूरतों को ध्यान में रखकर ही पॉलीटेक्निक/फामेर्सी के कोर्स डिजाइन किए जाएं

 | 
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ : मौजूदा जरूरतों को ध्यान में रखकर ही पॉलीटेक्निक/फामेर्सी के कोर्स डिजाइन किए जाएं

कानपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि मौजूदा जरूरतों को ध्यान में रखकर ही पॉलीटेक्निक/फामेर्सी के कोर्स डिजाइन किए जाएं। मांग के अनुसार ही इन संस्थाओं द्वारा संचालित कोर्स को अपग्रेड करना आवश्यक है। इसके साथ ही, शिक्षा की गुणवत्ता पर भी विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए, अन्यथा अच्छी जनशक्ति की उपलब्धता के उद्देश्य की पूर्ति नहीं हो पाएगी।

योगी ने कहा कि विभिन्न सेक्टरों में उपलब्ध रोजगार के दृष्टिगत पॉलीटेक्निक संस्थानों द्वारा संचालित कोसार्ं को उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों की अच्छी मांग है। आवश्यकता इस बात की है कि तकनीकी शिक्षा हासिल करने वाले विद्यार्थियों की क्षमताएं उच्च गुणवत्ता की हों। इससे उनके रोजगार पाने की सम्भावनाएं बढ़ जाती हैं।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के मद्देनजर फार्मा सेक्टर में फार्मा कोर्स करने वाले अभ्यर्थियों की अच्छी मांग है। उन्होंने फार्मा के कोर्स को समय की मांग के अनुसार अद्यतन करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि फार्मा कोर्स पासआउट्स की भविष्य में अच्छी डिमांड रहेगी। उनके रोजगार पाने की प्रबल सम्भावनाएं मौजूद हैं। ऐसे में फार्मा कोर्स को तत्काल अद्यतन किया जाए।

इस मौके पर सचिव प्राविधिक शिक्षा आलोक कुमार ने कहा कि मंत्रिपरिषद के निर्णय के अनुसार राजकीय एवं अनुदानित/सहायता प्राप्त पॉलीटेक्निक संस्थाओं में शैक्षणिक पदों के लिये एआईसीटीई के विनियम 2०19 के अनुसार सातवें वेतनमान की संस्तुतियों को लागू किये जाने और इसके अनुक्रम में राजकीय एवं अनुदानित पॉलीटेक्निक संस्थाओं की सेवा नियमावली/विनियमावली बनाए जाने का निर्णय लिया गया था।