Jansandesh online hindi news

कीजिए बृजभूमि पलवल के दर्शन यहां की सड़कें हुई हैं जलमग्न

 | 
कीजिए बृजभूमि पलवल के दर्शन यहां की सड़कें हुई हैं जलमग्न

निकुंज गर्ग की रिपोर्ट        

पलवल जो की बृज क्षेत्र का ही एक हिस्सा है आजकल अपनी बदहाली पर यहां की जनता आंसू बहाती हुई नजर आ रही है।यहां की सड़कें पूरी तरह जलमग्न हो चुकी हैं।यहां मानसून की बरसात गढ्ढों और जलभराव की सौगात साथ लेकर आई है।आलम यह है की लोगों के घरों और दुकानों में भी पानी अंदर तक दस्तक दे चुका है। प्रशासन के दावे पूरी तरह से फेल नजर आ रहे हैं।  यहां की जलमग्न हुई सड़कों के कारण वाहन भी डूब जाते हैं।सोशल मीडिया पर लोग शासन प्रशासन पर तंज कसते हुए लिख रहे हैं की पलवल के प्रशासन का बहुत बहुत आभार है जिनके कारण पलवल की जनता को मुफ्त में पलवल की सड़कों पर बोटिंग करने की सुविधा प्रदान हो रही है।

दूर दराज से लोग मथुरा वृंदावन धाम के दर्शन करने के लिए इन्हीं रास्तों से होकर गुजरते हैं।क्या प्रभाव पड़ता होगा बाहर से आने वाले लोगों पर लोग मथुरा वृंदावन धाम से पहले इस बृज के क्षेत्र पलवल की जलमग्न सड़कों के जब दर्शन करते होंगे तो अपना सिर झुकाने की बजाए पकड़कर बैठ जाते होंगे। पलवल के प्रशासन के इस नायाब कारनामे के कारण पलवल की छवि विश्व भर में धूमिल होती नजर आ रही है। जैसा की ज्ञातव्य है पलवल में सीवरेज व्यवस्था पूरी तरह ठप्प है। पलवल में सीवर का पानी घरों व दुकानों के अंदर घुस रहा है और प्रशासन को मुंह चिढ़ा रहा है।परंतु लगता है की पलवल का प्रशासन कुंभकर्ण से भी ज्यादा भयंकर निद्रा में लीन है।

पलवल का विकास सड़कों पर बह रहा है।ऐसा लगता है मानो पलवल की सड़कें भी  सिर से लेकर पांव तक सत्ता के नशे में झूम रही हों।ऐसे में छोटी सरकार यानी नगर परिषद के चुनाव भी कभी भी आ सकते हैं। अगर समय रहते पलवल की जनता को इस समस्या से निजात नहीं मिली तो इसका दुष्परिणाम आने वाले निकाय चुनावों पर भी पड़ सकता है।कहीं ऐसा ना हो की आज जिन लापरवाह अधिकारियों के कारण पलवल का विकास सड़कों पर बह रहा है उन्हीं के कारण आने वाले निकाय चुनावों में सत्ताधारी दल के हाथ से सत्ता भी बह जाए।