Jansandesh online hindi news

दीपावली आज सज धज कर तैयार हुआ पडरौना का बाजार 

 | 
दीपावली आज सज धज कर तैयार हुआ पडरौना का बाजार 
उपेन्द्र कुशवाहा

पडरौना,कुशीनगर। प्रकाश पर्व दीपावली को लेकर बाजार सज गए हैं। दुकानों की सजावट पुरी हो गया है तो घरों की साफ-सफाई भी तेजी से हो रही है। दुकानों में रंग रोगन से साज-सज्जा पूरी तरह बदल गई है। सबसे अधिक सजावट सोने-चांदी की दुकानों से लेकर मिट्टी की दीप व बिजली के इलेक्ट्रानिक सामान बेचने वाले दुकानों की है,जहां अंदर से लेकर बाहर तक सजा कर रखी गई झालरों की जगमगहाट अंधेरा होने पर देखते बन रहा है।

प्रक्रिया पूरी कर चुके हैं पटाखा बेचने वाले दुकानदार

पटाखों की दुकान लगाने वाले दुकानदार लाइसेंस के लिए फायर सर्विस से लेकर संबंधित थानों से कागजी खानापूर्ति कर चुके हैं। नगर समेत ग्रामीण इलाकों के विभिन्न चौराहों जैसे सेवरही, तमकुहीराज, सलेमगढ़, तरयासुजान, तिनफेड़िया, डिबनी समेत हजारों की संख्या में पटाखा की दुकान लग कर तैयार है। हालांकि पडरौना नगर में जूनियर हाईस्कूल में, कसया में प्राथमिक विद्यालय तथा हाटा में गांधी इंटर कालेज परिसर में बाजार लगती है।

स्वदेशी झालरों का बढ़ा दायरा

पडरौना नगर समेत सभी प्रमुख बाजारों में इलेक्ट्रिानिक की दुकानों पर सर्वाधिक बिकने वाले चाइनिज झालर बाजार में काफी कम दिख रही है। दुकानें स्वदेशी झालरों से पटा है। जिनकी कीमत 60 रुपये से लेकर 350 रुपये के बीच है। तो विदेशी झालरों का कहीं पिछले साल का स्टाक दिख रहा है। दूसरी ओर अच्छी क्वालिटी के पेंट का मूल्य भी आसमान छू रहा है। फिर भी लोग घर सजाने में जुटे हैं। 

मिट्टी की दीपों की मांग बढ़ी

बाजारों में सजाकर रखे गए मिट्टी के दीप 80 से 90 रुपये की दर से सैकड़े में बेची जा रही है, तो अन्य सामान 20 रुपये लेकर 50 रुपये के बीच प्रति अदद बेचा जा रहा है। छोटे व बड़े दीप के दर में फर्क है। बड़े सौ रुपये से एक सौ तीस रुपये सैकड़े के भाव से बिक रहे हैं।

सोने-चांदी के बर्तनों की बढ़ी मांग 

पडरौना नगर में गणेश व लक्ष्मी की प्रतिमा की दुकानें सजी हुई है,  ज्वेलरी की दुकानों पर सर्वाधिक चांदी के सिक्के व गणेश व लक्ष्मीजी की प्रतिमाएं सजी है। वजन के हिसाब से दर तय किया गया है।

फूल-मालाओं का भी बढ़ा भाव

पडरौना नगर के फूल माला बेचने वाले रामबाबू सैनी ने बताया कि बाजार भाव में आम दिनों की अपेक्षा तेजी आने से फूलों व मालाओं की मांग बढ़ी है। माला मंगा कर दुकानों की सजावट हो रही है। माला 20 से 30 रुपये की दर से बिकने वाला त्योहार के नाते 60 से 80 रुपये के बीच बेचा जा रहा है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।