Jansandesh online hindi news

CM YOGI को ट्विटर पर नौशाद ने दी जान से मारने की धमकी, पश्चिम बंगाल से उठा लाई UP Police

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ देश के उन चंद नेताओं में हैं जो आतंकवादियों या अराजक तत्वों के निशाने पर हैं. कई बार सोशल मीडिया के जरिये उन्हें धमकी दिए जाने की खबरें भी सामने आती रही हैं. इसी क्रम में धनबाद से कुछ ही दूरी पर पश्चिम बंगाल के रानीगंज से एक गिरफ्तारी की गई है.
 | 
CM YOGI को ट्विटर पर नौशाद ने दी जान से मारने की धमकी, पश्चिम बंगाल से उठा लाई UP Police

धनबाद. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ देश के उन चंद नेताओं में हैं जो आतंकवादियों या अराजक तत्वों के निशाने पर हैं. कई बार सोशल मीडिया के जरिये उन्हें धमकी दिए जाने की खबरें भी सामने आती रही हैं. इसी क्रम में धनबाद से कुछ ही दूरी पर पश्चिम बंगाल के रानीगंज से एक गिरफ्तारी की गई है. मिली जानकारी के अनुसार इस आरोपी को यूपी पुलिस अपने साथ लेकर लखनऊ चली गई है. बताया जा रहा है कि इस आरोपी ने रानीगंज से ट्विटर पर योगी आदित्यनाथ के लिए अपशब्द कहे थे और धमकी दी थी.

बताया जा रहा है कि लखनऊ पुलिस ने इस आरोपी का पता लगाने के बाद धनबाद से सटे पश्चिम बंगाल के रानीगंज रेलवे स्टेशन के नजदीक से मोहम्मद नौशाद नाम के युवक को गिरफ्तार किया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आरोपी नौशाद सड़क किराने बैठकर बटन बेचता है. यह भी जानकारी मिली है कि गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने आसनसोल कोर्ट में पेश किया था जिसके बाद यूपी पुलिस उसे ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ ले गई. कहा जा रहा है कि आरोपित ट्विटर का इस्तेमाल करता है इसलिए यूपी पुलिस को गहरी साजिश लगती है.

दरअसल, लखनऊ पुलिस को संदेह है कि मोहम्मद नौशाद सड़क के किनारे सिर्फ फेरी करने वाला सामान्य शख्स नहीं है. ट्विटर का इस्तेमाल करने के बाद लखनऊ पुलिस को उस पर शक है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यूपी पुलिस के अधिकारियों ने रानीगंज थाना पुलिस को बताया कि 5 नवंबर 2021 को आरोपित ने अपने ट्विटर एकाउंट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी दी थी.

इस मामले को गंभीरता से लेते हुए उत्तर प्रदेश पुलिस ने ट्विटर कंपनी से आरोपित के ट्वीट की जांच करवाई. इसके बाद ट्विटर ने आरोपित की पहचान की. इसके बाद से लखनऊ पुलिस मोहम्मद नौशाद के मोबाइल लोकेशन को लगातार ट्रैक करती रही. हालांकि, नौशाद लगातार ठिकाना बदल रहा था. इस कारण पुलिस उसकी घेराबंदी नहीं कर पा रही थी. लखनऊ पुलिस ने जब उसे लगातार रानीगंज में रहते पाया तब धावा बोला गया. इसके बाद मंगलवार को आसनसोल कोर्ट में प्रस्तुत करने के बाद ट्रांजिट रिमांड पर उसे लखनऊ ले गई.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।