Jansandesh online hindi news

सपा सुप्रिमो अब मैदान में, आज कानपुर से यूपी चुनाव का शंखनाद, अखिलेश की विजय रथ यात्रा का आज से होगा आगाज़

 | 
सपा सुप्रिमो अब मैदान में, आज कानपुर से यूपी चुनाव का शंखनाद, अखिलेश की विजय रथ यात्रा का आज से होगा आगाज़

कानून व्यवस्था की बदहाली के आरोप के चलते 2017 में उत्तर प्रदेश की सत्ता गंवाने वाली समाजवादी पार्टी (सपा) लगभग पांच साल के लंबे अंतराल के बाद विजय रथ यात्रा के जरिए इसी मुद्दे पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार के खिलाफ जनसमर्थन हासिल करने का प्रयास करेगी.

2022 विधासनभा चुनावों से पहले सपा सुप्रिमो अब मैदान में उतर चुके है. आज कानपुर से यूपी चुनाव का शंखनाद करेंगे. अखिलेश की विजय रथ यात्रा का आज से होगा आगाज़. कानपुर के जाजमऊ से शुरू होकर चार जिलों में घूमते हुए कानपुर देहात में समाप्त होगी. दो दिन में यात्रा करीब 190 किलोमीटर की दूरी तय करेगी. विजय रथ यात्रा प्रमुख संजय लाठर ने माल रोड स्थित एक होटल में प्रेस वार्ता कर पत्रकारों को बताया कि यह विजय रथ यात्रा चुनावी अभियान की शुरुआत है. जानकारी के मुताबिक अखिलेश यादव आज लखनऊ से सीधे कानपुर पहुँचेगे, जहां पर विजय रथ यात्रा की शुरूआत की जाएगी.

अखिलेश के स्वागत के लिए कार्यकर्ताओ ने शहर को पूरी होर्डिगों से पाट दिया है. इससे पहले सोमवार को अखिलेश यादव ने पिता मुलायम सिंह यादव का आशीर्वाद लिया था. बताया जा रहा है कि विजय रथ यात्रा (Vijay Rath Yatra) के जरिये गंगा-जमुनी तहजीब को सामने लाया जाएगा. यात्रा कानपुर नगर, कानपुर देहात, जालौन और हमीरपुर में रहेगी.

यह यात्रा पूरे यूपी में अलग-अलग जगहों पर जाएगी.
इस रूट से होकर जाएंगे सपा सुप्रीमो- अखिलेश लखनऊ कानपुर हाइवे होते हुए गंगा पुल पर पहुँचेगे. यहां पर कार्यकर्ता राष्ट्रीय अध्यक्ष का स्वागत करेंगे इसके बाद अखिलेश गंगा पुल से विजय रथ यात्रा में सवार होकर जाजमऊ , रामादेवी यशोदा नगर बाईपास होते हुए सुबह 11:30 बजे नौबस्ता पहुँचेगे. नौबस्ता में कार्यकर्ता स्वागत करने के ततपश्चात अखिलेश सीधे घाटमपुर के लिए रवाना होंगे.

रास्ते मे जगह जगह स्वागत कार्यक्रम है उसके बाद वह दोपहर 2 बजे नयवेली लिग्नाइट बिजली घर घाटमपुर पहुँचेगे यहाँ स्वागत और जनसभा कार्यक्रम है. इसके बाद शाम पांच बजे यात्रा हमीरपुर पहुंचेगी और अखिलेश यहीं रात्रि विश्राम करेंगे. सूत्रों ने बताया कि अलग-अलग चरणों में चलने वाली यात्रा के लिए लगभग तीन माह का समय निर्धारित किया गया है. यात्रा के दौरान हर जिले में सपा अध्यक्ष कम से कम एक जनसभा करेंगे और भाजपा सरकार की नाकामियों को गिनाएंगे. साथ ही वह सपा की सरकार आने पर दी जाने वाली सुविधाओं और योजनाओ के बारे में जानकारी देंगे.

क्रांति रथ के बाद यूपी में घूमेगा विजय रथ
गौरतलब है कि इससे पहले श्री यादव 31 जुलाई 2001 में पहली बार क्रांति रथ लेकर निकले थे. इसके बाद 12 सितंबर 2011 को दूसरी बार समाजवादी क्रांतिरथ यात्रा लेकर निकले जिसके बाद उन्हे यूपी की सत्ता हासिल हुई थी. अखिलेश यादव ने रविवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश से हालांकि विधानसभा चुनाव का शंखनाद कर दिया है और छोटे दलों से गठबंधन अपनी शर्तो के अनुसार करने की घोषणा की थी.

यहां दिलचस्प होगा कि सपा अध्यक्ष के चाचा और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) अध्यक्ष शिवपाल यादव भी मंगलवार को ही मथुरा से यात्रा निकाल रहे है. शिवपाल ने सपा से गठबंधन की इच्छा जतायी थी मगर अखिलेश की ओर से अनुकूल संकेत नहीं मिलने पर उन्होंने अलग राह पर चलते हुए मथुरा से यात्रा शुरू करने का एलान किया था. हालांकि चाचा भतीजा के एक होने की अटकलें अभी पूरी तरह समाप्त नहीं हुई है. उम्मीद जतायी जा रही है कि 22 नवंबर को सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन के मौके पर दोनो गठबंधन कर विधानसभा चुनाव के लिए एक किश्ती पर सवार हो सकते हैं.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।