Jansandesh online hindi news

12 घंटे की पूछताछ के बाद केन्द्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा गिरफ्त मे 

आशीष मिश्र शनिवार सुबह करीब 10:38 बजे वकीलों के साथ लखीमपुर खीरी स्थित क्राइम ब्रांच के ऑफिस में पेश हुए थे, यहां उससे करीब 12 घंटे तक पूछताछ की
 | 
आशीष मिश्रा गिरफ़्तार
लखीमपुर हिंसा मामले में आशीष मिश्र गिरफ्तार, जांच में सहयोग नहीं करने का आरोप

लखीमपुर खीरी.आशीष मिश्र शनिवार सुबह करीब 10:38 बजे वकीलों के साथ लखीमपुर खीरी स्थित क्राइम ब्रांच के ऑफिस में पेश हुए थे. यहां उससे करीब 12 घंटे तक पूछताछ की. लेकिन क्राइम ब्रांच के अनुसार, आशीष ने पूछताछ में सहयोग नहीं किया, जिसके चलते उसके गिरफ्तार कर लिया गया.  

 खीरी हिंसा मामले में आशीष मिश्र को गिरफ्तार कर लिया गया है. स्पेशल टास्क फोर्स ने करीब 12 घंटे की पूछताछ के बाद केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र का बेटा आशीष मिश्र को गिरफ्तार किया है. आशीष के खिलाफ IPC की धारा 302, 147 और 148 समेत कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज है.

किसी भी वक़्त हो सकती है कोर्ट मे पेशी

एसआईटी चीफ उपेंद्र अग्रवाल ने बताया कि, 'आशीष मिश्र जांच में सहयोग नहीं कर रहा था. इसलिए उसकी गिरफ्तारी की गई है. इस वक्त क्राइम ब्रांच के ऑफिस में उसका मेडिकल हो चुका और रविवार की सुबह उसे कोर्ट में पेश किया जा सकता हैं। सुरक्षा के चलते किस कोर्ट में आशीष की पेशी होगी इसका खुलासा नहीं किया गया है। वहीं मौके की नज़ाकत को देखते हुए जिले के एसडीएम और सीओ समेत तमाम वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुँच गए और भारी पुलिस फ़ोर्स भी बाहर तैनात कर दी गई हैं।

हिंसा में कुल 8 लोगों की हुई मौत


3 अक्टूबर को हुई हिंसा में कुल 8 लोग मारे गए है, जिनमें 4 किसान हैं, 2 बीजेपी के कार्यकर्ता हैं, एक आशीष मिश्रा का ड्राइवर है और एक वहां के स्थानीय पत्रकार रमन कश्यप हैं. अब तक इस मामले में दो FIR दर्ज हो चुकी हैं, जिनमें एक एफआईआर अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ दर्ज हुई है. उन पर हत्या और गैर इरादन हत्या दोनों ही धारा लगाई गई हैं.

FIR में क्या लिखा हुआ है?


FIR की कॉपी में लिखा है कि 3 अक्टूबर को किसान अजय मिश्र टेनी और उप मुख्य मंत्री केशव प्रसाद मौर्य को काले झंडे दिखाने के लिए शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे. लेकिन इसी दौरान आशीष मिश्रा हथियारों से लैस 15 से 20 लोगों के साथ वहां पहुंचे और किसानों को कुचलते हुए निकल गए. इसमें ये भी दावा है कि आशीष मिश्रा ने फायरिंग की थी, जिससे गुरविंदर सिंह नाम के एक किसान की मौत हो गई. हालांकि, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दावा है कि जो लोग इस हिंसा में मारे गए, उनमें से किसी की भी मौत गोली लगने से नहीं हुई है. जो चार किसान मारे भी गए, उनके शरीर पर चोट के निशान मिले हैं. इसमें ये भी दावा है कि गुरविंदर सिंह पर किसी धारदार हथियार से हमला किया गया, न कि उनकी हत्या गोली मार कर की गई.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।