Jansandesh online hindi news

उन्नाव पुलिस हुई शर्मसार, अवैध उगाही में आसोहा थाने के दरोगा पर दर्ज हुआ मुकदमा
 

 | 
उन्नाव पुलिस हुई शर्मसार, अवैध उगाही में आसोहा थाने के दरोगा पर दर्ज हुआ मुकदमा

यूपी पुलिस के कारनामे अक्सर  चर्चे में सुनने को मिला करते हैं कभी रिवॉलवर रानी सोशल मीडिया में छा जाती हैं हैं तो कभी  अपराधियों से मुठभेड़  के दौरान यूपी पुलिस ठाय-ठाय करती हुई  नजर आती है  तो कभी वर्दी वाला गुंडा बनकर जनता  को लूटने का काम करती है यूपी पुलिस के जिम्मेदार , सुर्खियों में हमेशा छाया रहने वाला जनपद उन्नाव एक बार फिर से सुर्खियों में छा गया है  जनपद के तेज तर्रार एसपी जहां कानून व्यवस्था को  सही  करने के लिए सख्त  दिशा-निर्देश दे रहे  है वही उन्नाव जनपद के असोहा थाने में तैनात दरोगा ने  उन्नाव पुलिस की छवि को  धूमिल कर दिया है ।

उन्नाव जनपद के असोहा में तैनात दरोगा सर्वेश सिंह कल देर शाम  रानीपुर चौराहे पर दोपहिया वाहनों की चेकिंग कर रहे थे ।तभी ग्राम  संहरांवा निवासी सोनू पुत्र स्वर्गीय संतोष बोलेरो से अपनी ज्वेलरी की दुकान बंद कर घर वापस आ रहा था। नियमानुसार बाइक रुकवा कर चेकिंग शुरू की और उसकी डिग्गी की तलाशी ली ।जिसमें कुछ जेवर रखे थे। दरोगा ने पूछा कहां से ला रहे हो तो सोनू ने बताया कि हमारी दुकान बिलोरा में है  सर्वेश राणा दरोगा उसे थाने ले आए और अपने आवास पर उसे धमकाने लगे कि तुम नकली जेवर बेचते हो तुम्हारे खिलाफ शिकायते हैं तब सोनू ने कहा सर मुझे दिखा दीजिए किस ने शिकायत की है इतने में दरोगा  का पारा गरम हो गया और कहा कि तुझे अभी बंद कर दूंगा नहीं तो ₹50000 की व्यवस्था कर जान बचाने के लिए सोनू ने फोन करके रुपए मंगा कर दरोगा सर्वेश  राणा को रुपए दिए और कहा शेष कल दे दूंगा।

गांव पहुंचने के बाद उसने पूरी हकीकत बताई और यह बात  पुरवा विधायक तक पहुंच गई।विधायक झल्ला पड़े और तुरंत एसपी अविनाश पांडेय  को घटना से अवगत कराया। प्रभारी निरीक्षक से जानकारी ली गई तो वह टालमटोल करते रहे ।एसपी  ने सीओ पुरवा को जांच के आदेश दिए। सीओ की जांच में घटना सत्य पाई गई और दरोगा को तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए संगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेज दिया गया।   घटना के बाद  पुलिस में दहशत का माहौल उत्पन्न हो गया है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।