Jansandesh online hindi news

UP Elections 2022: बीजेपी से निष्कासित आईपी सिंह सपा में बने प्रवक्ता, अब यूपी बीजेपी चीफ को भेजा अलीगढ़ का ताला, जानिए क्यों चर्चा में है !

 | 
UP Elections 2022: बीजेपी से निष्कासित आईपी सिंह सपा में बने प्रवक्ता, अब यूपी बीजेपी चीफ को भेजा अलीगढ़ का ताला, जानिए क्यों चर्चा में है !

 

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के प्रवक्‍ता और वरिष्ठ नेता आईपी सिंह एक बार फिर चर्चा में हैं। उन्होंने अलीगढ़ का एक ताला खरीदकर यूपी बीजेपी मुख्‍यालय पर लगाने के लिए भेजा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, सुनील बंसल और सीएम योगी सुविधानुसार इसका उपयोग कर सकते है। 10 मार्च को विधानसभा चुनाव का नतीजा आने के बाद तीनों पार्टी मुख्यालय पर ताला डालकर घर जा सकते हैं।

आईपी सिंह पहले बीजेपी के वरिष्ठ नेता और प्रवक्ता थे। हालांकि वह लगातार अखिलेश यादव का समर्थन करते देखे गए। साल 2019 में चुनाव के दौरान उन्होंन अखिलेश यादव को अपना घर कार्यालय के रूप में इस्तेमाल करने का भी ऑफर दिया था। इसके बाद बीजेपी ने आईपी सिंह को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया था। एक चर्चा यह भी थी कि वह अक्सर लखनऊ से बीजेपी एक सांसद का विरोध करते नहीं चुकते थे, वह पार्टी पर खुद को टिकट देने के लिए लगातार दबाव बना रहे थे।

बीजेपी से निष्कासित होने के बाद आईपी सिंह ने समाजवादी पार्टी की सदस्यता ले ली। इसका अखिलेश यादव की तरफ से आईपी सिंह को इनाम भी मिला। सपा में शामिल होते ही अप्रैल 2019 में आईपी सिंह को सपा में प्रवक्ता बनाया दिया गया।
 आईपी सिंह ने बीजेपी नेताओं को ताला भेजने के बाद ट्वीट किया, 'जो लोग कह रहे हैं कि ताला अलीगढ़ का होना चाहिए, उन भाइयों को बताना था कि ताला ‘हरीसन लॉक्स’ अलीगढ़ का ही है। नफ़रत की दुकान को, मजबूती से लॉक कर देगा।'

बता दें कि अलीगढ़ देश में ताला नगरी के नाम से भी फेमस है। अलीगढ़ में मुगलों के जमान से हैंडमेड ताले बनाए जा रहे हैं, जो कि सबसे मजबूत माने जाते हैं। हाल में यहीं से विश्व का सबसे बड़ा और भारी 400 किलो का ताला राम मंदिर के लिए भेजा गया है। बता दें कि देश का करीब 80 प्रतिशत ताला यही से बनकर सप्लाई होता है। अलीगढ़ ताला उद्योग करीब 4 हजार करोड़ रूपये का है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।