Jansandesh online hindi news

महिलाओं ने उगते हुए भगवान सूर्य को अ‌र्घ्य देकर मांगा सौभ्याग्य

लोक आस्था का महापर्व छठ बृहस्पतिवार की सुबह उगते हुए भगवान सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ ही संपन्न हो गया। छठ पर्व के चौथे और अंतिम दिन जनपद के शहरी व ग्रामीणों क्षेत्रो के व्रती महिलाए अपने परिजनों के साथ विभिन्न नदी घाटों और तालाबों के किनारे पहुंचे और जलाशय में खड़े होकर उदयीमान भगवान भास्कर को अ‌र्घ्य दिया।
 
 | 
महिलाओं ने उगते हुए भगवान सूर्य को अ‌र्घ्य देकर मांगा सौभ्याग्य
,

उपेंद्र कुशवाहा

पडरौना,कुशीनगर। लोक आस्था का महापर्व छठ बृहस्पतिवार की सुबह उगते हुए भगवान सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ ही संपन्न हो गया। छठ पर्व के चौथे और अंतिम दिन जनपद के शहरी व ग्रामीणों क्षेत्रो के व्रती महिलाए अपने परिजनों के साथ विभिन्न नदी घाटों और तालाबों के किनारे पहुंचे और जलाशय में खड़े होकर उदयीमान भगवान भास्कर को अ‌र्घ्य दिया। महिलाओं ने छठी मइया और भगवान परम ज्योतिष से अपने पुत्र,सुहाग और परिवार की खुशियां मांगीं। इसके बाद 36 घंटे का अपने निर्जल व्रत का पारायण किया। 

भोर से ही व्रती महिलाएं व श्रद्धालु घाट पर पहुंचने लगे। शुक्रवार कै अस्तलगामी आदिभूत को अ‌र्घ्य देने के बाद घर में भरी कोसी को भोर में घाट पर पहुंचाया गया और छठ बेदी पर गन्ने के बीच कोसी रखकर षष्टी माता व भगवान आदित्य की धूप दीप, नैवेद्य अर्पित कर पूजा अराधना की गई । सूर्योदय होते ही व्रतियों ने उगते हुए सूर्य को अ‌र्घ्य दिया। इस दौरान पडरौना शहर से लेकर शहर गांवों तक के घाटों पर छठ पूजा के पारंपरिक व कर्णप्रिय गीत गूंजते रहे । छठ घाटों पर श्रद्धालुओं का आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा था। अर्घ्य देने के लिए व्रती महिलाएं जहां पानी मे खडी होकर हाथ मे फल आदि से भरा सूप लेकर भगवान भानु की स्तुति करते हुए उनके उदय होने का इंतजार कर रही थी वही उनके साथ गई अन्य महिलाए समूह मे छठी मइया की गीत गा रही थी। जैसे ही आकाश मे भगवान तपन की लालिमा छाई कि अर्घ्य देने का सिलसिला शुरू हो गया। 

रंग-बिरंगी रोशनी से गुलजार रहा घाट

छठ महापर्व पर शनिवार की सुबह रंग-बिरंगी रोशनी में जिले भर के छठ घाट गुलजार रहे। गीतों की गूंज दूर तक सुनाई देती रही। हाथ में जल लेकर भगवान तजोरुप की ओर टकटकी लगाए पानी में खड़ी महिलाओं की श्रद्धा देखने लायक रही। सुबह की हल्की ठंड में भी भगवान दीप्तमूर्ति के दर्शन के लिए महिलाओं का धैर्य नहीं टूटा। उगते हुए ओजस्कर को अ‌र्घ्य देने के बाद महिलाओं ने दीप जलाकर पानी में बहाया। इसी के साथ छठ पूजन के तीन दिवसीय व्रत का समापन हुआ। 

पडरौना में छठ घाटों पर दिखा उत्साह

पडरौना नगर के छावनी स्थित पोखरा,रामलीला मैदान स्थित राम धाम पोखरा,बावली चौक स्थित पोखरा,कसया मे हिण्यावती नदी घाट,श्रीनाथ पोखरा,सपहा मे धाधी घाट,वाडी नदी घाट,सेवरही के शिवाघाट,बासी घाट,मथौली में काली मंदिर घाट सहित जिले के सभी छठ घाटों पर व्रती महिलाओं का उत्साह देखने लायक था। घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। इस दौरान सीओ सदर संदीप कुमार वर्मा इंस्पेक्टर निर्भय कुमार सिंह सुमित महिला पुलिस के जवान मौजूद रहे।

सुरक्षा को लेकर मुस्तैद रही पुलिस

सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद रही। एसपी सचिंद्र पटेल ने खुद छठ घाटों का निरीक्षण कर सुरक्षा के इंतजाम को देखा और मातहतों को आवश्यक निर्देश दिए थे। इस दौरान पुलिस प्रशासन के लोग मौजूद रहे।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।