बच्चों ने पेड़ से बांधकर टीचर्स की कर दी पिटाई, वायरल हुआ वीडियो

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. वायरल खबरें

बच्चों ने पेड़ से बांधकर टीचर्स की कर दी पिटाई, वायरल हुआ वीडियो

Image


Children tied to trees and beat up teachers, video went viral

डेस्क। बच्चों और शिक्षकों के बीच का संबंध बहुत ही साझेदारी भरा होता है। जहां एक ओर गुरु को भगवान से भी ऊंचा दर्जा दिया गया है वहीं हैरान करने वाली बात यह है कि छात्रों ने अपने टीचर की पेड़ से बांधकर पिटाई कर दी। जिसका वीडियो भी काफी वायरल हो रहा है।

मामले के बारे में ज्यादा जानने पर पता चला है कि बच्चों ने ऐसा इस लिए किया क्योंकि टीचर ने उन्हें एग्जाम में कम नंबर दिए साथ ही इतना ही नहीं, इन स्टूडेंट्स ने पूरे घटनाक्रम का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर अपलोड भी किया।

वायरल वीडियो पर ध्यान दे तो इसमें छात्र कह रहे हैं- 'लाइव चलाओ, लाइव चलाओ, इस वीडियो को वायरल करना है। वीडियो में आप साफ सुन पाएंगे कि उन्होंने कहा कि, इन्होंने जानबूझकर कम नंबर दिया है, हमारी जिंदगी के साथ खिलवाड़ किया है इनको भुगतना पड़ेगा।' बता दें यह घटना झारखंड के दुमका स्थित गोपीकांदर अनुसूचित जनजाति आवासीय विद्यालय की बताई जा रही है।

जानकारी के लिए बता दें कि झारखंड बोर्ड ने शनिवार को JAC Class 9 Result की घोषणा की। जिसके बाद सोमवार को यह 29 अगस्त 2022 को घटी। पुलिस ने बताया कि दुमका के गोपीकांदर आवासीय स्कूल में 9वीं के 32 छात्रों में से 11 को ग्रेड D मिला, जिसको फेल के समान माना जाता है।

खराब नंबर मिलने से गुस्सा हुए छात्रों ने स्कूल के मैथ्स टीचर कुमार सुमन, क्लर्क सोनेराम चौरे और अचिंतो कुमार मलिक को स्कूल कैंपस में ही आम के पेड़ से बांधा और उनकी पिटाई भी कर दी। उनको बहुत सी चोटें भी आई हैं।

वहीं इसको लेकर टीचर का आरोप है कि उन्होंने प्रैक्टिकल में कम नंबर दिए गए, जिसके कारण बच्चे फेल हो गए। और क्लर्क ने Jharkhand Board की वेबसाइट पर मार्क्स अपलोड कट दिए।  वहीं मामले पर बीडीओ अनंत झा का यह कहना है कि 'स्कूल मैनेजमेंट न तो प्रैक्टिकल एग्जाम के मार्क्स दिखा सका, न ही उन्हें ऑनलाइन अपलोड करने की डेट की जानकारी हो पाईं। अब तक स्पष्ट नहीं है कि बच्चे थ्योरी में फेल हुए हैं या फिर प्रैक्टिकल में।'


 

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश