Home राष्ट्रीय Gyanvapi Survey: ‘कहीं दोबारा बाबरी न हो जाए’

Gyanvapi Survey: ‘कहीं दोबारा बाबरी न हो जाए’

6
0

Asaduddin Owaisi On Gyanvapi: ऑल इंडिया मजलिए-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) नेता और हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने ज्ञानवापी सर्वे को लेकर कहा है कि उन्हें आशंका है कि कहीं दूसरा बाबरी न हो जाए. ओवैसी ने कहा, एएसआई की रिपोर्ट आने के बाद बीजेपी-आरएसएस नैरेटिव सेट करेंगे. साथ ही उन्होंने जयपुर-मुंबई एक्सप्रेस में गोलीकांड को लेकर कांग्रेस पर कटाक्ष किया और कहा कि मोहब्बत की दुकान है तो चलाओ न.

ओवैसी ने कहा, 23 दिसम्बर, 1949 को जब बाबरी मस्जिद में मूर्तियां रखी गईं, तो नमाज बंद हो गई. हम मस्जिद से महरूम हो गए. 6 दिसम्बर, 1992 को शिलान्यास की अनुमति दी गई और मस्जिद चली गई. हमें डर है कि एएसआई की रिपोर्ट के आने के बाद दूसरा (बाबरी मस्जिद) न हो जाए. 

ओवैसी ने पूछा- सर्वे के बाद क्या होगा?

उन्होंने सवाल किया कि सर्वे के बाद मस्जिद का रिलीजियस करेक्टर रहेगा या चेंज होगा? क्या नमाज़ बंद होगी? उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के बयान पर ओवैसी ने कहा, तकलीफ है कि मुख्यमंत्री आदेश आने के पहले ही तरफदारी कर रहे हैं. 

नूंह हिंसा पर बोले- मुसलमानों का घर तोड़ा गया

ओवैसी ने नूंह हिंसा को लेकर बयान दिया और हरियाणा की बीजेपी सरकार पर निशाना साधा. नूंह हिंसा में शामिल आरोपियों के घरों पर बुलडोजर चलाने पर ओवैसी ने कहा, वहां पूरे के पूरे मुसलमानों के घर तोड़े गए. जिसने मस्जिद जलाई, इमाम का कत्ल किया, उसका घर भी तोड़ो. हैदराबाद सांसद ने कहा, बुलडोजर से इंसाफ करेंगे तो फिर कोर्ट क्या करेगा. इनका सपोर्ट संलिप्तता साफ जाहिर होती है.

जयपुर-मुंबई ट्रेन गोलीकांड पर कांग्रेस पर कटाक्ष

जयपुर से मुंबई जा रही ट्रेन में हुए गोलीकांड पर ओवैसी ने कांग्रेस की गहलोत सरकार पर निशाना साधा. ओवैसी ने कहा, कांग्रेस वाले कहते हैं कि मोहब्बत की दुकान है तो चलाओ न. उन्होंने कहा, ‘आप’ (दिल्ली), केसीआर (तेलंगाना) ने दिया है, तो नीतीश कुमार और अशोक गहलोत मुआवजा क्यों नहीं देते हैं.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।