Home राष्ट्रीय हीमोफीलिया: लक्षण और इसका उपचार

हीमोफीलिया: लक्षण और इसका उपचार

22
0
हीमोफीलिया: लक्षण और इसका उपचार

हीमोफीलिया क्या है?

हीमोफीलिया एक गंभीर रक्त संबंधी रोग है जो रक्त शुद्ध करने की क्षमता को प्रभावित करता है। यह रोग रक्त स्त्राव को बंधने के लिए आवश्यक चिपचिपा पैदा करने वाले ब्लड क्लॉट्स के रूप में विसर्जित होता है।

हीमोफीलिया के लक्षण: हीमोफीलिया के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं:

  1. बार-बार ब्लीडिंग: लगातार नाक से खून बहना, मसूड़ों से खून आना या जिगर के नीचे अधिक ब्लीडिंग।
  2. जोड़ों में स्थायी स्वेलिंग: जोड़ों में अचानक स्वेलिंग या फिर स्थायी स्थिति में वृद्धि।
  3. बार-बार शारीरिक चोट: सामान्य घावों या चोटों के साथ बहुत ज्यादा खून बहना।
  4. खून में टूलीन: आंतरिक और बाहरी खून में छोटी-छोटी टूलियाँ या ब्लड क्लॉट्स।
  5. असामान्य बार-बार ब्लीडिंग: आम बार-बार रक्तस्राव के साथ सामान्य चोटों से अधिक ब्लीडिंग।

हीमोफीलिया का उपचार: हीमोफीलिया का उपचार रक्त स्राव को नियंत्रित करने, रक्त शुद्ध करने, और ब्लड क्लॉट्स को रोकने के लिए किया जाता है। इसमें लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए और चोट को रोकने के लिए दवाओं का उपयोग शामिल है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।