Home राष्ट्रीय Israel-Hamas Conflict: पाकिस्तान हमास के साथ, कश्मीर और हमास ………….?

Israel-Hamas Conflict: पाकिस्तान हमास के साथ, कश्मीर और हमास ………….?

16
0

Israel-Hamas Conflict: इजराइल हमास के मध्य युद्ध थमने का नाम नहीं ले रहा। गाजा में मौत का तांडव मचा हुआ है। युद्ध में आम नागरिकों की मौत हो रही है। वही कई देश इजराइल – हमास युद्ध को धार्मिक रूप दे रहे हैं। मुस्लिम देश लगातार फ़लस्तीन का समर्थन कर रहे हैं। बीते दिनों में हिज्बुल ने इजराइल को युद्ध रोकने की चेतावनी देते हुए बयाना दिया था युद्ध नहीं रोका गया तो युद्ध का दायरा बढ़ सकता है। वही अब मुस्लिम देश पकिस्तान का हमास प्रेम उमड़ा है। 

पाकिस्तानी धार्मिक पार्टी जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम पाकिस्तान (JUI-F) के चीफ मौलाना फजल-उर-रहमान ने कतर में हमास नेताओं इस्माइल हानियेह और खालिद मशाल से मुलाकात की और हमास के लोगों को एकजुट होने का संदेश दिया। फजल-उर-रहमान ने हमास को इंगित करते हुए कश्मीर का भी मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा- हमास और कश्मीर में अन्याय हो रहा है। यह अन्याय उन लोगों के मुँह पर जोरदार तमाचा है जो अन्य देशों में मानवाधिकार के उल्लंघन पर बड़ी-बड़ी दलीलें देते हैं और उन देशों की निंदा करते हैं। 

उन्होंने आगे कहा- आज गाजा की जो दशा है उसके जिम्मेदार विकसित देश हैं। विकसित देशों के हाथ गाजा के निर्दोषों के खून से सने हुए हैं। फलीस्तीन के लोग अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। वह लोग अपनी जमीन के लिए लड़ रहे हैं। आम नागरिकों की मौत हो रही हैं और विकसित देश तमासा देख रहे हैं। मौन साधे हुए इजराइल की हिंसक गतिविधियों को समर्थन दे रहे हैं। 

बता दें 7 अक्टूबर से 4,800 बच्चों सहित 9,770 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं। गाजा में बढ़ती मौत के कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गुस्सा बढ़ गया है। वाशिंगटन से लेकर बर्लिन तक हजारों लोग सड़कों पर युद्ध विराम की मांग कर रहे हैं। लेकिन इजराइल गाजा पर आत्मघाती हमला करने से रुक ही नहीं रहा है। अगर हमला ऐसे ही चलता रहा तो विश्व को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। क्योंकि बीतते समय के साथ इजराइल और हमास का युद्ध धार्मिक रूप लेता जा रहा है। 

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।