Home राष्ट्रीय नोटा क्या है ? भारतीय चुनावों में नोटा का क्या उपयोग है

नोटा क्या है ? भारतीय चुनावों में नोटा का क्या उपयोग है

17
0
नोटा क्या है ? भारतीय चुनावों में नोटा का क्या उपयोग है
नोटा क्या है ? भारतीय चुनावों में नोटा का क्या उपयोग है

हर बार चुनाव के दौरान आपका सामना नोटा शब्द से होता होगा। नोटा या ‘उपरोक्त में से कोई नहीं’ विकल्प मतदाताओं को सभी उम्मीदवारों को औपचारिक रूप से खारिज करने, उनकी असहमति का संकेत देने का विकल्प प्रदान करता है। सितंबर 2013 में, सुप्रीम कोर्ट ने इस विश्वास के साथ मतपत्रों में नोटा विकल्पों को शामिल करने के पक्ष में फैसला सुनाया। आदेश में इस तथ्य पर जोर दिया गया कि नोटा को शामिल करने से राजनीतिक दलों को उच्च गुणवत्ता वाले उम्मीदवारों को नामांकित करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। नोटा की सुविधा के लिए, चुनाव आयोग ने एक विशिष्ट प्रतीक का उपयोग किया जो सभी इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) पर अंतिम पैनल में दिखाई देता है। नोटा वोट को तटस्थ माना जाता है और अंतिम मिलान में इसका कोई संख्यात्मक मूल्य नहीं होता है। यह एक नकारात्मक वोट से भिन्न है और मतदाताओं के लिए अपना असंतोष दिखाने के साधन के रूप में कार्य करता है। यदि नोटा को सबसे अधिक वोट मिलते हैं, तो दूसरे सबसे अधिक वोट पाने वाले उम्मीदवार को विजेता घोषित किया जाता है।

नोटा क्या है?
नोटा, जिसका पूरा नाम  *None Of The Above* यानी ‘उपरोक्त में से कोई नहीं’ है, भारतीय चुनावों में मतदाताओं को दिया गया एक विकल्प है। इसका उपयोग करके मतदाता यह दर्शा सकते हैं कि उन्हें चुनाव में खड़े किसी भी उम्मीदवार को वोट नहीं देना है। यह एक प्रकार का विरोध दर्ज करने का तरीका है, जिससे मतदाता यह संकेत दे सकते हैं कि उन्हें उपलब्ध उम्मीदवारों में से कोई भी पसंद नहीं है। हालांकि, नोटा के अधिकतम वोट होने पर भी जीतने वाले उम्मीदवार को बर्खास्त करने की गारंटी नहीं होती है। अगर नोटा को सबसे अधिक वोट मिलते हैं, तो भी उम्मीदवारों में से जिसे सबसे अधिक वोट मिले होंगे, उसे विजेता घोषित किया जाएगा। नोटा का विकल्प भारतीय मतदाताओं को 2013 में पहली बार दिया गया था।

नोटा का इतिहास: नोटा का विचार पहली बार 1976 में आया था, जब इस्ला विस्टा नगर सलाहकार परिषद ने संयुक्त राज्य अमेरिका में इस विकल्प को चुनावी मतपत्र में शामिल करने का प्रस्ताव पारित किया। भारत में, 2009 में निर्वाचन आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में इस विकल्प को शामिल करने की अर्जी दी थी। 27 सितंबर 2013 को, सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव में ‘उपर्युक्त में से कोई नहीं’ वोट पंजीकृत करने का अधिकार लागू किया।

नोटा की आवश्यकता: नोटा की शुरुआत से मतदाताओं को चुनावों में उम्मीदवारों को अस्वीकार करने की अनुमति मिली है। इससे राजनीतिक दलों को सही उम्मीदवारों को पेश करने के लिए मजबूर किया जा सकता है ।

नियम 49-ओ और नोटा के बीच अंतर: नियम 49-ओ के अनुसार, मतदाता मतदान न करने का फैसला कर सकते थे, लेकिन यह गोपनीयता प्रदान नहीं करता था। नोटा के प्रावधान को मंजूरी मिलने के बाद, धारा 49-ओ को खारिज कर दिया गया, जिससे मतदाताओं को गोपनीयता के साथ उम्मीदवारों को अस्वीकार करने का अधिकार मिला।

नोटा का चुनावी मूल्य: नोटा का कोई चुनावी मूल्य नहीं होता है। यदि नोटा के लिए अधिकतम वोट हों, तो भी अधिकतम वोट शेयर वाला उम्मीदवार विजेता होगा।

नोटा की लोकप्रियता: भारतीय मतदाताओं के बीच नोटा ने बढ़ती लोकप्रियता हासिल की है, और कई चुनावों में नोटा ने कई राजनीतिक दलों की तुलना में अधिक वोट जीते हैं ।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।