Home politics Election 2024: मिशन 2024 की राह में क्या हैं रोड़े

Election 2024: मिशन 2024 की राह में क्या हैं रोड़े

18
0

23 जून को पटना में विपक्षी दलों की बड़ी बैठक होने जा रही है, जिसमें मोदी विरोधी खेमे का जमावड़ा लगने वाला है. बैठक में 2024 के चुनाव में भाजपा को सत्ता से हटाने के लिए एक सूत्री एजेंडा तय करने की कोशिश की जाएगी, लेकिन विपक्षी दलों के बीच टकराव बता रहा है कि राह आसान नहीं है.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जून को विपक्षी दलों की बैठक बुलाई है यह बैठक बड़ी है। बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, राहुल गांधी, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, तमिलनाडु के सीएम एमके स्टालिन, शरद पवार, उद्धव ठाकरे, अखिलेश यादव, फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती शामिल होने वाले हैं.

नीतीश की योजना संपूर्ण क्रांति पार्टी-2

बैठक करीब 50 साल पहले नीतीश कुमार द्वारा जेपी के नेतृत्व वाली क्रांति के भाग-2 को शुरू करने का एक प्रयास है, लेकिन सवाल यह है कि क्या उनकी इच्छा पूरी होगी और क्या पार्टियों के विवाद इसमें बाधा नहीं बनेंगे। अब टीएमसी और कांग्रेस को ही देख लीजिए। पश्चिम बंगाल में दोनों एक-दूसरे पर हमलावर हैं और पंचायत चुनाव के दौरान एक-दूसरे पर हिंसा का आरोप लगा रहे हैं।

विपक्षी दल अपनी कड़वाहट भूल जाएंगे

सवाल यह है कि जब राहुल गांधी और मल्लिकार्जुन खड़गे पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के साथ बैठेंगे तो क्या इन दोनों के लिए इसे भूलना आसान होगा. इस बीच बैठक में शामिल होने आ रहे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से कांग्रेस की नहीं पट रही है. आम आदमी पार्टी के नेता ने दिल्ली में तबादला-पोस्टिंग पर केंद्र के अध्यादेश के मुद्दे पर कांग्रेस से समर्थन मांगा था लेकिन कांग्रेस खामोश रही. वहीं, केजरीवाल कांग्रेस पर हमला करने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं। राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और बीजेपी की वसुंधरा राजे के बीच भाईचारे के रिश्ते को लेकर दिया गया बयान इसका ताजा उदाहरण है.

महाराष्ट्र में भी सब ठीक नहीं है

महाराष्ट्र में, महा अघाड़ी गठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर रस्साकशी की भी खबरें आईं। शरद पवार ने हाल ही में साफ कर दिया था कि महाविकास गठबंधन अभी सीटों के बंटवारे के फॉर्मूले पर किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंचा है.

विपक्ष को एकजुट करने की नीतीश की योजना में कांग्रेस, उद्धव और शरद पवार भी शामिल हैं. नीतीश की नजर महाविकास अघाड़ी के बड़े दलों पर है. महाविकास अघाड़ी में औरंगजेब को लेकर भी असहमति है। वंचित बहुजन अघाड़ी के अध्यक्ष प्रकाश अंबेडकर शनिवार (17 जून) को औरंगजेब की कब्र पर फूल चढ़ाने खुल्दाबाद पहुंचे। एकनाथ शिंदे की शिवसेना ने उद्धव से सवाल पूछना शुरू कर दिया है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।