Home politics धार्मिक प्रतीक चिन्ह का इस्तेमाल इस्लाम के खिलाफ : एआईएमजे प्रमुख

धार्मिक प्रतीक चिन्ह का इस्तेमाल इस्लाम के खिलाफ : एआईएमजे प्रमुख

6
0

ऑल इंडिया मुस्लिम जमात (एआईएमजे) के अध्यक्ष और जाने-माने इस्लामी विद्वान मौलाना शहाबुद्दीन रजवी बरेलवी ने एक फतवा जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि गैर-मुस्लिम युवकों से शादी करने के बाद ‘सिंदूर’, ‘कलावा’ और ‘बिंदी’ लगाने वाली मुस्लिम महिलाएं इस्लाम के सिद्धांतों के खिलाफ जा रही हैं। उन्होंने कहा कि शरीयत महिलाओं को दूसरे धर्म के प्रतीकों को पहनने की अनुमति नहीं देती है। फतवे में, मौलवी ने कहा कि जो महिलाएं इस तरह की प्रथाओं का पालन करती हैं, वह वास्तव में इस्लामी मान्यताओं का पालन नहीं कर रही हैं और उन्हें बहिष्कृत किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश और कई अन्य राज्यों ने धर्मांतरण विरोधी कानून को अपनाया, लेकिन अभी भी ऐसी घटनाएं सामने आ रही हैं, जहां जोड़े अपनी धार्मिक पहचान छुपाकर शादी कर रहे हैं और गैर-मुस्लिम लड़कियों को शादी के लिए बहला फुसलाकर ले जाने के लिए मुस्लिम युवाओं को बड़े पैमाने पर दोषी ठहराया जा रहा है।

उन्होंने कहा, बरेलवी संप्रदाय ऐसे विवाहों को अवैध और अमान्य करार देता है। मोहम्मद नईम नाम के आम आदमी ने इस संबंध में एक सवाल किया था जिस पर फतवा जारी किया गया था।मौलवी ने कहा, सोशल मीडिया पर देखा जा रहा है कि मुस्लिम युवक अपनी धार्मिक पहचान छिपाते हैं और ‘तिलक’ लगाते हैं और हिंदू नाम अपनाते हैं। यह शरीयत के खिलाफ है और अवैध है।
मौलाना ने कुरान का हवाला देते हुए कहा कि यह स्पष्ट रूप से कहा गया है कि किसी गैर-मुस्लिम से तब तक शादी नहीं करनी चाहिए जब तक कि वह इस्लाम नहीं अपना लेती।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।