Home धार्मिक ज्येष्ठ मास का दूसरा बड़ा मंगल आज

ज्येष्ठ मास का दूसरा बड़ा मंगल आज

14
0

ज्येष्ठ मास में हनुमान जी की पूजा का विशेष महत्व है। इस महीने में पड़ने वाले प्रत्येक मंगलवार को बड़ा मंगल या बुढ़वा मंगल कहा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ज्येष्ठ मास में ही भगवान श्री राम की हनुमान जी से भेंट हुई थी। यही कारण है कि इस महीने में हनुमान जी की पूजा करने से साधक को रोग, दोष और अन्य प्रकार के भय से मुक्ति मिल जाती है। बता दें कि आठ चिरंजीवी देवताओं में हनुमान जी का भी नाम है, जिन्हें अमरत्व का वरदान प्राप्त है। वहीं हनुमान जी को कलयुग के देवता के रूप में भी पूजा जाता है। ऐसे में ज्येष्ठ मास के दूसरे बड़ा मंगल पर इस विधि से करें हनुमानजी की पूजा

हनुमान जी की पूजा करने से पहले प्रात: काल में स्नान-ध्यान करें और पूजा-स्थल की साफ-सफाई करें। इसके बाद साफ वस्त्र धारण करें और कुश के आसन पर बैठें। जो लोग मंगलवार का व्रत रखते हैं, वह घी का दीपक जलाकर व्रत का संकल्प लें। हनुमान जी को तिलक, सिंदूर, गंध, पुष्प, धूप, दीप इत्यादि अर्पित करें। इसके बाद उन्हें बूंदी के लड्डू या नैवेद्य अर्पित करें। अंत में हनुमान जी की आरती और हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करें।

  • आध्यात्मिक व ज्योतिषीय दृष्टिकोण से मंगलवार के व्रत को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। इसलिए इस दिन तामसिक भोजन व मांसाहार या मदिरा का सेवन ना करें।
  • मंगलवार के दिन सफेद या काले रंग का वस्त्र धारण ना करें। साथ ही इस दिन उधार लेना और देना अशुभ माना जाता है।

  • मंगलवार के दिन किसी का अपमान भूलकर भी ना करें। साथ ही अपशब्द का प्रयोग भी ना करें। इस दिन किसी से वाद-विवाद करना भी अशुभ माना जाता है। बुढ़वा मंगल के दिन ब्रम्हचर्य का पालन जरूर करें।

ॐ नमो हनुमते रुद्रावताराय सर्वशत्रुसंहारणाय सर्वरोग हराय सर्ववशीकरणाय रामदूताय स्वाहा ।।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।