Home Socially viral अघोरियों को क्यों बनाना पड़ता है शवों के साथ शारीरिक संबंध

अघोरियों को क्यों बनाना पड़ता है शवों के साथ शारीरिक संबंध

45
0

Aghori Baba Secrets : अघोरी बाबाओं को लेकर लोगों के दिल में कई सवाल भी उठते हैं। वहीं उनके रहन-सहन, खानपान और तमाम चीजें हर किसी को हैरान भी कर देती है। साथ ही अघोरी भगवान शिव के सबसे बड़े भक्त भी माने जाते हैं लेकिन हर कोई अघोरी नहीं बन सकता है।
वहीं इसकी डगर काफी मुश्किलों भरा और शर्तों भरा भी होता है। वहीं अघोरी बनने के लिए तमाम चीजों से गुजरना भी पड़ता है, साथ ही जिसे कोई आम व्यक्ति सोच भी नहीं सकता है। वहीं इनकी जिंदगी काफी रहस्मयी भी होती है। साथ ही अघोरी बाबाओं को लेकर कई बातें प्रचलित भी हैं, जिनका जिक्र हम यहां जरूर करेंगे।
अघोरी हमेशा शिव भक्ति की धुन में रहते हैं। वहीं उनकी भक्ति का तरीका अन्य दूसरे शिव भक्तों से बिल्कुल भिन्न है। भगवान भोलेनाथ की तरह ही अघोरी बाबा भी श्मशान की राख को अपनी शरीर में लगाएं ही रहते हैं। वहीं उनकी तरह ही अघोरी भी जटा और रुद्राक्ष की माला धारण किए हुए रहते हैं। इतना ही नहीं भगवान शिव की तरह ही वो दुनियावी माया से दूर अपनी साधना और शिव भक्ति में लीन ही रहते हैं। 
साथ ही अघोरी बाबा से अधित्तर लोग डरते हैं लेकिन एक बार अगर उनकी कृपा दृष्टि जिसपर पड़ जाए तो उसका कल्याण तय ही होता है। अघोरी बाबा दुनिया के सामने केवल महाकुंभ और माघ मेले के मौके पर ही आते हैं। 
अघोर शव के साथ क्यों बनाते हैं संबंध?
अघोरी बाबाओं के लेकर कई बातें भी कही जाती हैं। इसमें एक बात यह भी है कि वे मुर्दों के साथ संबंध बनाते हैं वहीं इस बात को लेकर अघोरी बाबाओं का यह कहना है कि यह शिवकी साधना का ही एक तरीका है। 
वहीं अघोरियों का मानना है कि अगर वे शारिरिक संबंध बनाने के दौरान भी शिव की उपासना कर सकते हैं तो यह उनकी साधना का बहुत ही ऊंचा स्तर होता है। साथ ही अघोरियों को लेकर यह बात भी कही जाती है कि वे ब्रह्मचर्य का पालन नहीं करते हैं बल्कि वो महिलाओं के साथ मासिक धर्म के दौरान भी संबंध जरूर बनाते हैं। वहीं इससे उनकी अघोर विद्या को बल मिलता है और उनकी शक्ति भी बढ़ती है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।