Home health Chest Pain Treatment:अचानक Chest Pain के हो सकते हैं कई कारण

Chest Pain Treatment:अचानक Chest Pain के हो सकते हैं कई कारण

31
0

Chest Pain Treatment:  सीने में अचानक दर्द उठने के वैसे तो बहुत सारे कारण हो सकते हैं, लेकिन इसे गंभीरता से लेना बेहद जरूरी है. चेस्ट को नजरअंदाज करना आपको मुश्किल में डाल सकता है. सीने में दर्द होने का कारण सामान्य फिर हो सकता है और हार्टअटैक जितना गंभीर भी. ऐसे में अगर किसी व्यक्ति को अचानक दर्द पर होने लगे और डॉक्टर के पास पहुंचने में समय लग रहा है तो कारण पता करने कि बजाय पहले तुरंत मरीज को फर्स्ट एड देने के साथ ही तुरंत डॉक्टर के पास पहुंचाएं. अलग-अलग चेस्ट पेन के लिए इलाज अलग-अलग हो सकते हैं. आज आपको बताते हैं तकलीफ  के हिसाब से इनिशियल ट्रीटमेंट का तरीका.

 इसलिए हो सकता है सीने में दर्द, कैसे करें इलाज

हार्ट अटैक

  • चेस्ट के साथ साथ कंधे, बाहें, पीठ, जबड़े तक दर्द जा रहा हो तो वो हार्ट अटैक का दर्द भी हो सकता है. ऐसी  सिचुएशन में एस्पिरिन चबाई जा सकती है, जो  ब्लड क्लोटिंग होने से रोकती है.
  • आस पास कोई मौजूद हो तो CPR दे सकता है. इसमें चेस्ट को हाथ से प्रेशर दे कर बार बार दबाना चाहिए.
  • अगर पहले भी ऐसा हो चुका है और डॉक्टर का प्रिस्क्रिप्शन है तो नाइट्रो ग्लिसरीन भी ले सकते हैं.

एनजाइना-

जब दिल में खून कम पहुंचता है तब सीने में जो दर्द महसूस होता है उसे एनजाइना कहते हैं. इसमें डॉक्टर की सलाह लेना ही बेहतर विकल्प है.

लंग्स में ब्लड क्लोटिंग होना

फेफड़ों में खून का थक्का जमता है तो उसे पल्मोनरी एम्बोलिज्म कहते हैं. इसमें सांस लेने में तकलीफ, ज्यादा पसीना आना, कफ में खून आना, बेहोशी जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं. इस कंडीशन में भी डॉक्टर से संपर्क करना ठीक होगा.

प्लूरिसी के साथ निमोनिया

निमोनिया में छाती में दर्द के अलावा कंपकंपी आ सकती है और बुखार के साथ कफ भी हो सकता है. प्लूरिसी में लंग्स के आसपास की मेंबरेन में सूजन आ जाती है. जिससे चेस्ट पेन जैसा महसूस होता है. इस तरह का चेस्ट पेन थोड़ी देर सांस रोकने और दर्द वाली जगह पर प्रेशर देने से ठीक हो जाता है.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।