Home स्वास्थ्य-जीवनशैली मुस्लिम धर्म में महिलाओं की स्थिति

मुस्लिम धर्म में महिलाओं की स्थिति

17
0

मुस्लिम धर्म के अनुयायी मुस्लिम कहलाते हैं। मुस्लिम धर्म दुनिया का सबसे बड़ा धर्म है जो अधिकतर अरब देशों में फैला हुआ है। मुस्लिम धर्म का मुख्य कायदा-कानून कलम है, जो कि ईस्लाम के संपूर्ण शास्त्रों का आधार है। मुस्लिम धर्म में अल्लाह पर विश्वास किया जाता है और मुस्लिमों को उनके पैगम्बर मुहम्मद का विशेष सम्मान दिया जाता है। इस धर्म के अनुयायी विभिन्न देशों में रहते हैं और वे विभिन्न जातियों, भाषाओं और संस्कृतियों से हो सकते हैं।

मुस्लिम धर्म के नियम क्या हैं-

मुस्लिम धर्म के नियमों का आधार कुरान और हदीस से लिया जाता है, जो मुस्लिम धर्म के प्रमुख शास्त्र होते हैं। निम्नलिखित कुछ मुख्य नियम हैं जो मुस्लिम धर्म के अनुयायी अपनाते हैं:

  1. शहादत का प्रण लेना: मुस्लिम धर्म में शहादत का ज्ञान बहुत महत्वपूर्ण है। शहादत का मतलब होता है कि किसी अन्य देवता के बजाय केवल अल्लाह के सामने नमाज पढ़ना।

  2. रोजा रखना: मुस्लिम धर्म के अनुयायी रमदान के महीने में रोजा रखते हैं। रोजा रखने का मतलब होता है कि निर्मम अनाहार के दौरान अल्लाह के सामने नमाज पढ़ा जाए।

  3. नमाज पढ़ना: मुस्लिम धर्म में प्रतिदिन पाँच वक्त की नमाज का पालन किया जाता है।

  4. जकात देना: मुस्लिम धर्म के अनुयायी जकात देते हैं, जो उनकी मालिकी के लिए एक देय राशि होती है।

  5. हज्ज करना: मुस्लिम धर्म के अनुयायी को अल्लाह के घर का यात्रा करनी होती है। हज्ज अल्लाह के सामने नमाज पढ़ने और दूसरे रीती-रिवाजों का प्रावधान है .

मुस्लिम धर्म में महिलाओं की स्थिति-

मुस्लिम धर्म में महिलाओं की स्थिति संबंधित मुद्दों पर विभिन्न मतानुसार विवाद होते हैं। हालांकि, कुरान और हदीस में महिलाओं के अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में विस्तार से बताया गया है।

कुरान में महिलाओं के अधिकार के बारे में कई बातें उल्लेखित हैं। उनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

  • सभी मुस्लिमों को अल्लाह के सामने समान होना चाहिए। (सूरह अन-निसा 4: 1)
  • अधिकारों और कर्तव्यों के मामले में महिलाओं को नासिहत करना चाहिए। (सूरह अन-निसा 4: 19)
  • लड़कियों के जन्म पर दुःख नहीं होना चाहिए। (सूरह النحل 16: 58-59)
  • महिलाओं का अधिकार है कि वे सही तरीके से विवाहित हों और अपने संबंधों को स्थापित करें। (सूरह अन-निसा 4: 3)

हदीस में भी महिलाओं के अधिकारों के बारे में बताया गया है। उनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

हदीस में महिलाओं के अधिकारों के बारे में उल्लेख कुछ इस प्रकार हैं:

  • महिलाएं अपनी इच्छा से विवाह कर सकती हैं।
  • महिलाएं नैतिक और धार्मिक शिक्षा देने के लिए लोगों की मुख्य शिक्षिका होती हैं।
  • महिलाएं पुरुषों के समान अधिकार रखती हैं और उन्हें समान रूप से व्यवहार किया जाना चाहिए।
  • महिलाएं अपने पति और परिवार के साथ अपने अधिकारों का पूरा उपयोग करने का अधिकार रखती हैं।
  • महिलाओं को नसीहत करने, संघर्ष में उन्हें सहायता देने, समस्याओं को हल करने और मुश्किल समय में उनके साथ सहयोग करने का काम देना चाहिए।

यद्यपि कुरान और हदीस में महिलाओं के अधिकारों के बारे में स्पष्ट उल्लेख होते हैं, लेकिन कुछ जगहों पर महिलाओं को नापाक होने या अनुचित व्यवहार के लिए दोषी ठहराया जाता है। ऐसी धारणा आमतौर पर संस्कृति और स्थानीय रीति-रिवाजों से जुड़ी होती हैं जो धर्म से सीधे संबंधित नहीं होतीं।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।