Home स्वास्थ्य-जीवनशैली 15 – 20 की उम्र में क्यों करें प्यार से परहेज

15 – 20 की उम्र में क्यों करें प्यार से परहेज

24
0

प्यार सबसे खूबसूरत एहसास है। जब व्यक्ति किसी से अटूट प्रेम करता है तो उसके लिए उसका प्रेमी सबकुछ होता है। बड़े-बुजुर्ग कहते थे कि प्यार और व्यापार की सही उम्र होती है और जब सही उम्र के साथ प्रेम किया जाए तो वह सफल भी होता है और उसमें भावनात्मक जुड़ाव जीवन भर बना रहता है।

आज कल समय बदल गया है छोटे-छोटे बच्चे प्रेम कर रहे हैं। किसी को डेट करना मानों उनके जीवन का हिस्सा बन गया है और इस डेटिंग के चलते उनकी लाइफ में डिप्रेशन ने जगह बना ली है। वही आज हम आपको वो कारण बताने जा रहे हैं जिनकी वजह से जानकारों ने 15 से 20 वर्ष की उम्र में प्रेम करने की अनुमति नहीं दी है और उनके मुताबिक जो व्यक्ति इस उम्र में प्रेम करता है उसके प्रेम में वास्तविक भाव की कमी होती। 

जानें क्यों 15 से 20 वर्ष की उम्र न करें प्यारा:

करियर:

20 साल की उम्र में लोग अपने करियर बनाने की राह पर चलते हैं और 15 वर्ष की उम्र में नए सपनो की उड़ान भरते हैं। इस उम्र में उनके अंदर बचपना होता है और अगर वह इस उम्र में प्रेम में फस जाते हैं तो उनके करियर में विराम लग जाता है और समय बदलने के साथ न उनको प्रेम प्राप्त होता है और न उम्दा करियर। 

मानसिक तनाव:

15 से 20 की उम्र में सभी सिनेमाई जिंदगी जीते हैं उन्हें वास्तिकता का बोध नहीं होता। प्रेम में त्याग के स्वरुप को वह कभी नहीं समझते। लेकिन एक व्यक्ति विशेष से उनका जुड़ाव निरंतर बढ़ता जाता है और जब उस व्यक्ति ने उनका डिस्टेंस बनता है या कभी बात नहीं होती या वह लोग आपस में मिल नहीं पाते। तो वह मानसिक तनाव का शिकार हो जाते हैं और उनका जीवन विकास से भर जाता है। 

मैं का भाव:

जब कोई व्यक्ति 15 से 20 वर्ष की उम्र में किसी को डेट करता है तो उसके अंदर बचपना होता है। वह अपने साथी की प्राथमिकता बना रहना चाहता है। वही जब उसका पार्टनर किसी अन्य के साथ कुछ वक्त बिताता है तो उसमें मैं का भाव आता है और इस मैं के भाव के कारण दो लोगों के मध्य विवाद उत्पन्न होता है। 

जिम्मेदारी का बोझ:

 15 से 20 वर्ष की उम्र व्यक्ति के हंसने खाने के दिन होते है। अगर इस उम्र में कोई व्यक्ति किसी से प्रेम करता है तो वह व्यक्ति उसकी जिम्मेदारी बन जाता है और समय के साथ यह जिम्मेदारी व्यक्ति के बचपने को खत्म कर देती है। व्यक्ति अपने आप पर ध्यान नहीं दे पाता और देखते ही देखते उसका जीवन कष्टों से घिरने लगता है। 

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।