Home राष्ट्रीय India-China Relation: भारत से संबंध सुधारने की कोशिश में जुटा चीन

India-China Relation: भारत से संबंध सुधारने की कोशिश में जुटा चीन

21
0

India-China Relation:  भारत के साथ रिश्ते खराब होने के बाद अब चीन की पोल खुल रही है. चीन के शीर्ष राजनयिक वांग यी ने भारत के साथ व्यापार कम होने पर भारतीय विदेश मंत्री से संबंध सुधारने का आग्रह किया है। इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में आसियान बैठकों से इतर वांग ने भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर से कहा कि दोनों देशों को संदेह की नहीं बल्कि आपसी समर्थन की जरूरत है.

चीन अब भारत का दूसरा सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है-

1990 के दशक से, सीमा समझौतों की एक श्रृंखला के बाद दोनों देशों के बीच संबंधों में सुधार हुआ है और चीन अब भारत का दूसरा सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है। हालांकि, एलएसी पर ताजा झड़प के बाद भारत ने व्यापार कम कर दिया है, जिससे चीन फिर से संबंध सुधारने का राग अलाप रहा है।

गलवान में झड़प के बाद बढ़ा तनाव-

भारत और चीन 3,800 किमी लंबी सीमा साझा करते हैं और 1962 में युद्ध लड़ चुके हैं। हालाँकि तब से संबंधों में कुछ सुधार हुआ है, लेकिन 2020 में गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई झड़प के बाद स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। झड़प में 20 भारतीय सैनिकों और चार चीनी सैनिकों के मारे जाने के बाद से भारत ने चीन के साथ संबंध सामान्य नहीं किए हैं।

कई बार ये ग़लत बातचीत होती है-

शुक्रवार को विदेश मंत्री एस.के. जयशंकर और चीन के पूर्व विदेश मंत्री और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी में विदेश मामलों की समिति के वर्तमान अध्यक्ष वांग यी ने मुलाकात की। दोनों नेता आसियान क्षेत्रीय मंच (एआरएफ) की बैठक के लिए इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में हैं जहां उन्होंने प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की। पिछले कुछ महीनों में जयशंकर ने चीनी विदेश मंत्री के साथ दो बैठकें की हैं।

अगस्त में दक्षिण अफ्रीका में ब्रिक्स विदेश मंत्रियों और शीर्ष नेताओं की बैठक के दौरान दोनों देशों के नेताओं के फिर से मिलने की संभावना है। दोनों देशों के बीच राजनयिक स्तर से लेकर सैन्य कमांडर स्तर पर भी बातचीत का दौर एक निश्चित अंतराल पर जारी है. खबर यह भी है कि भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर बैक-चैनल बातचीत भी हो रही है।

भारत का साफ संदेश: सीमा पर शांति और सुरक्षा जरूरी-

हालाँकि, चीन LAC के पास दो स्थानों से अपने सैनिकों को मई, 2020 से पहले की स्थिति में ले जाने के लिए तैयार नहीं है। चीन का कहना है कि भारत के साथ सीमा पर स्थिति सामान्य है, जबकि भारत लगातार कहता रहा है कि स्थिति अभी सामान्य नहीं है और सीमा पर शांति और सुरक्षा स्थापित किए बिना रिश्ते सामान्य नहीं हो सकते.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।