Home राष्ट्रीय मुस्लिम वर्ल्ड लीग के महासचिव मोहम्मद बिन अब्दुलकरीम अल-इस्सा ने पीएम मोदी...

मुस्लिम वर्ल्ड लीग के महासचिव मोहम्मद बिन अब्दुलकरीम अल-इस्सा ने पीएम मोदी से की मुलाकात

12
0

Mohammed Bin Abdulkarim Al-Issa Meets PM Modi: मुस्लिम वर्ल्ड लीग (एमडब्ल्यूएल) के महासचिव शेख मोहम्मद बिन अब्दुलकरीम अल-इस्सा ने मंगलवार (11 जुलाई) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. इस दौरान दोनों ने कई मुद्दों पर चर्चा की. 

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक ट्वीट में यह जानकारी दी.  पीएमओ ने कहा, ”पीएम नरेंद्र मोदी ने मुस्लिम वर्ल्ड लीग के महासचिव और मुस्लिम विद्वानों के संगठन के अध्यक्ष शेख मोहम्मद बिन अब्दुलकरीम अल-इस्सा से मुलाकात की. दोनों ने अंतर-धार्मिक सद्भाव, शांति को आगे बढ़ाने और मानव प्रगति की दिशा में काम करने के विभिन्न पहलुओं पर व्यावहारिक चर्चा की.”

शेख मोहम्मद बिन अब्दुलकरीम अल-इस्सा भारत क्यों आए
भारत की यात्रा पर आए अल-इस्सा ने दिल्ली में खुसरो फाउंडेशन और इंडिया इस्लामिक कल्चरल सेंटर के आयोजित एक कार्यक्रम को भी संबोधित किया. अल-इस्सा भारत सरकार के आधिकारिक निमंत्रण पर यहां आए हैं. एमडब्ल्यूएल एक अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन है जिसका मुख्यालय मक्का में है. इसमें सभी इस्लामी देशों और संप्रदायों के सदस्य शामिल हैं.

मोहम्मद बिन अब्दुलकरीम अल-इस्सा ने कार्यक्रम में क्या कहा?
शेख मोहम्मद बिन अब्दुलकरीम अल-इस्सा ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भारत अपनी पूर्ण विविधता के साथ केवल जुबानी तौर पर ही नहीं, बल्कि जमीनी स्तर पर भी सह-अस्तित्व का एक शानदार मॉडल है. 

खुसरो फाउंडेशन और इंडिया इस्लामिक कल्चरल सेंटर के आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने अरबी भाषा में अपने संबोधन में कहा, ‘‘भारतीय मुसलमान भारतीय समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं. उन्हें अपनी राष्ट्रीयता और अपने संविधान पर गर्व है. अल-इस्सा ने कहा, ‘‘हम जानते हैं कि भारत एक हिंदू बहुसंख्यक देश है और यहां एक धर्मनिरपेक्ष संविधान है, जो एक राष्ट्र के तहत एकजुट विभिन्न संप्रदायों के लिए एक छतरी की तरह है.”

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।