Home राष्ट्रीय PM Modi US Visit: आपकी सरकार मुस्लिम अधिकारों के लिए क्या कर...

PM Modi US Visit: आपकी सरकार मुस्लिम अधिकारों के लिए क्या कर रही है? अमेरिका में पूछे गए सवाल

32
0

PM MODI US Visit: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमेरिकी दौरे से भारत में मुस्लिमों और अल्पसंख्यकों पर बहस छिड़ गई है. पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा भी मुसलमानों को लेकर सवाल पूछे जाने के बाद इल्हान उमर समेत कुछ अमेरिकी सांसदों ने भारत में अल्पसंख्यकों पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए पीएम मोदी के भाषण का बहिष्कार किया. बहस के बीच जब पीएम मोदी संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए तो एक पत्रकार ने उनसे इस बारे में सवाल पूछ लिया. पीएम मोदी ने विस्तार से जवाब दिया.

पीएम मोदी से पूछा गया सवाल-

दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस में पहुंचे, जहां अमेरिकी पत्रकारों ने उनसे सवाल पूछना शुरू कर दिया। एक पत्रकार ने पूछा, “दुनिया भर के नेता लोकतंत्र को संरक्षित करने के लिए दृढ़ हैं।” ऐसे मामले में, आप और आपकी सरकार मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों के अधिकारों की सुरक्षा में सुधार और फ्रिट्च भाषण को बनाए रखने के लिए क्या कर रहे हैं?

भेदभाव का कोई सवाल ही नहीं: पीएम मोदी

इस सवाल का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि लोकतंत्र हमारी रगों में है और जाति, पंथ और धर्म के आधार पर किसी के साथ भेदभाव का सवाल ही नहीं उठता. मोदी ने कहा, “हमारी सरकार ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास’ के सिद्धांत पर आधारित है और भारत के लोकतांत्रिक मूल्यों में कोई भेदभाव नहीं है।” “लोकतंत्र हमारी रगों में है। हम लोकतंत्र जीते हैं. हमारे पूर्वजों ने इसे संविधान की संज्ञा दी है। जब हम लोकतंत्र में रहते हैं तो भेदभाव का सवाल ही नहीं उठता।”

पीएम मोदी ने दूसरी बार अमेरिकी कांग्रेस के संयुक्त सत्र को संबोधित किया, जहां उनका जोरदार स्वागत हुआ और सांसदों ने मोदी-मोदी के नारे लगाए. हालाँकि, उसी समय, कई अमेरिकी नेताओं ने भारत में अल्पसंख्यकों, विशेषकर मुसलमानों के अधिकारों पर सवाल उठाया। पूर्व राष्ट्रपति ओबामा ने यह भी कहा कि अगर उन्होंने पीएम मोदी से बात की होती तो वह भारत में मुसलमानों की सुरक्षा का मुद्दा उठाते.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।